जागरण संवाददाता, संगरूर

जिला होम्योपैथिक अफसर संगरूर डा. रहमान अशद के नेतृत्व में सिविल अस्पताल संगरूर में होम्योपैथिक जागरूकता दिवस मनाया गया। होम्योपैथिक मेडिकल अफसर सिविल अस्पताल संगरूर डा. अमरिदर कौर द्वारा मरीजों को होम्योपैथिक के जन्मदाता डा. सैमुयल हैनेमन के जीवन व उनके द्वारा खोजी गई पैथी संबंधी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि होम्योपैथिक प्रणाली सिमिलया क्योरेंटर पर आधारित है। आम शब्दों में यह प्रणाली जहर से जहर को मारने की है। भारत में सबसे पहले महाराजा रणजीत सिंह होम्योपैथिक प्रणाली को लेकर आए थे। इस प्रणाली से रोगों को जड़ से खत्म किया जा सकता है। करनैल सिंह, बलजिदर सिंह, गुरवीर सिंह सहित अस्पताल स्टाफ उपस्थित था।