जागरण संवाददाता, संगरूर :

लहरागागा के गांव चंगालीवाला के अनुसूचित वर्ग से संबंधित जगमेल सिंह की हत्या को राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने बहुत ही दुखद व अमानवीय घटना करार देते हुए इस घिनौने अपराध के लिए चार आरोपितों सहित पुलिस व सेहत विभाग को भी बराबर का जिम्मेदार ठहराया है। कमीशन ने 15 दिन में इस हत्याकांड की रिपोर्ट दिल्ली में सौंपने के डीजीपी पंजाब, प्रिसिपल सचिव स्वस्थ, गृह सचिव व सामाजिक सुरक्षा को आदेश देते हुए दिल्ली बुलाया है। पूरी जांच रिपोर्ट के आधार पर पुलिस व हेल्थ विभाग की बरती गई लापरवाही के जिम्मेदारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने आइजी पटियाला रेंज जतिदरपाल औलख को हिदायत दी कि पुलिस की बरती गई लापरवाही की तुरंत जांच की जाए, साथ ही कमीशन ने दो वर्ष पहले जगमेल सिंह के भाई की बाजुओं को तोड़ने की घटना की भी जांच के आदेश दिए। शनिवार को जगमेल हत्याकांड की जांच के लिए राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग का एक पैनल चेयरमैन डॉ. रामशंकर कथेरिया की अगुआई में गांव चंगालीवाला पहुंचा।

पैनल में वाइस चेयरमैन डॉ. एल मुरुगण, सदस्य डॉ. योगेंद्र पासवान भी शामिल थे। पैनल ने करीब 45 मिनट तक पीड़ित की मां-पत्नी व बच्चों सहित अन्य पारिवारिक सदस्यों से बंद कमरे में बातचीत की। इससे पहले गांव की सरपंच, ग्रामीणों, अधिकारियों से मुलाकात कर जगमेल से मारपीट कर मौत के घाट उतारने के मामले की जानकारी प्राप्त की।

आयोग ने माना कि जगमेल की मौत मारपीट से हुई है। सूचना मिलने के बाद भी पुलिस ने अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई, अस्पताल में जगमेल को इलाज न मिल लाने के कारण सेहत अधिकारी की लापरवाही भी सामने आई। इस हत्याकांड से कुछ दिन पहले भी जगमेल व आरोपित का झगड़ा हुआ था। अगर पुलिस उसी समय कार्रवाई कर लेती यह नहीं होता।

कहा, बेशक पुलिस ने चारों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन परिवार से बातचीत दौरान सामने आया है कि परिवार में अभी भी डर है। चेयरमैन डॉ. रामशंकर ने कहा कि पंजाब सरकार पीड़ित परिवार को बीस लाख मुआवजा, एससीएसटी एक्ट के तहत बनती सवा आठ करोड़ की राशि, पीडित की पत्नी को सरकारी नौकरी, बच्चों को स्नातक तक की शिक्षा का खर्च, पीड़ित की मां को पांच हजार रुपये मासिक पेंशन व सरकारी खर्च पर घर बनाकर देगी।

यह मुआवजा व अन्य सुविधाएं डीसी संगरूर परिवार को जल्द मुहैया करवाने के लिए जवाबदेह होंगे। सरकार ने पीड़ित परिवार को छह लाख रुपये का मुआवजा प्रदान कर दिया है। बाकी राशि चालान पेश होने के बाद परिवार को दिए जाए। गिरफ्तार किए गए चारों आरोपितों संबंधी कमीशन ने उच्च अधिकारियों को अगले दिनों जल्द इस केस का चालान पेश करने की हिदायत दी।

इस मौके पर आइजी पटियाला रेंज जतिदर सिंह औलख, डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी, डॉ. संदीप गर्ग, एसडीएम लहरागागा काला राम कांसल, एसडीएम संगरूर बबनदीप सिंह, सहायक कमिश्नर अंकुर महेंद्रू आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!