संवाद सूत्र, अमरगढ़ (संगरूर)

दस जून से धान की रोपाई शुरू होते ही उत्तर प्रदेश, बिहार से बड़ी तादाद में मजदूर धान लगाने पंजाब पहुंच रहे हैं। राज्य सरकारों द्वारा लाकडाउन हटाए जाने से मजदूर बस, ट्रकों व निजी वाहनों से पंजाब की तरफ बढ़ रहे हैं, लेकिन इस सब में कहीं न कहीं कोरोना के प्रति बड़ी लापरवाही सामने आ रही है। हालांकि कोरोना महामारी का कहर देश भर में कम हो गया है, लेकिन फिर भी काफी तादाद में केस सामने आ रहे हैं।

राज्य सरकार को चाहिए कि दूसरे राज्य के किसी प्रवासी व्यक्ति को पंजाब में दाखिल होने से पहले कोविड टेस्ट करवाना यकीनी बनाया जाए परन्तु कहीं भी जिले की सीमा पर टेस्टिग नहीं की जा रही। इसका फायदा उठाकर मजदूर खेतों व गांव में गाड़ियां भरकर प्रवेश कर रहे हैं, जो किसी समय बड़ी लापरवाही साबित हो सकती है।

अमरगढ़ थाने के प्रमुख सुखदीप सिंह ने कहा कि कोविड टेस्टिग करना ग्रामीण डिस्पेंसरियों की जिम्मेदारी है। जहां पर आशा वर्कर तैनात की गई हैं। सरकारी अस्पताल के एसएमओ संजय गोयल ने कहा कि इसकी जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन की बनती है कि वह सीमा पर चेकिग करें।

Edited By: Jagran