जेएनएन, संगरूर। एचडीएफसी बैंक के कर्मचारी बन लोगों से एटीएम, बैंक खातों की व अन्य जानकारी हासिल कर ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के चार आरोपितों को संगरूर पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार किया। उनसे 90 सिम, सात मोबाइल फोन, 1.20 लाख कैश व नौ हैंड सैट भी बरामद हुए हैं।

डीएसपी (डी) मोहित अग्रवाल के नेतृत्व में गठित साइबर सेल व सीआइए स्टाफ बहादुर सिंह वाला की टीम ने उनको दबोचा। ये सभी एक कॉल सेंटर बनाकर ठगी करते थे। ग्राहकों का रिकॉर्ड विभिन्न जगह से प्राप्त कर उनकी गुप्त जानकारी लेते, ताकि फोन करते समय ग्राहकों को विश्वास में लिया जा सके।

एसएसपी डॉ. संदीप गर्ग ने बताया कि 27 अगस्त को थाना सिटी-1 पुलिस को संगरूर निवासी अवतार सिंह ने शिकायत दी थी कि किसी एचडीएफसी कर्मी ने उसे कॉल कर एटीएम का मैसेज कोड पूछा। कोड बताने पर उसके खाते से 19, 997 रुपये निकल गए। ऑनलाइन ट्रांसफर हुए पैसों की जांच करते हुए पुलिस दिल्ली के उपेंद्र कुमार तक पहुंची। उससे पूछताछ के बाद उसके तीन साथियों को भी दिल्ली से पकड़ लिया गया।

ये हैं आरोपित

आरोपितों की पहचान मोहम्मद फरीद खान निवासी ई-2 101, गली नंबर पांच, चाणक्य प्लेस पार्ट-1 वेस्ट दिल्ली, संजय कश्यप निवासी एन 66 व मुकेश निवासी एन-55 चाणक्य प्लेस पार्ट-2 वेस्ट दिल्ली और उपेंद्र कुमार निवासी जी-90 30 फीट रोड, सीतापुरी पालम साउथ वेस्ट दिल्ली के रूप में हुई।

दो अन्य आरोपित मंडी गोबिंदगढ़ व लुधियाना से पकड़े

एक अन्य मामले में धूरी पुलिस ने नूर अली निवासी मंडी गोबिंदगढ़ व पवन कुमार निवासी लुधियाना को 4 मोबाइल फोन, सिम व 7.65 लाख कैश के साथ पकड़ा। नूर अली भी धूरी में विभिन्न मोबाइल एप के जरिये या नकदी ट्रांसफर के नाम पर लोगों से ठगी करता था। वह पंजाब से बिहार व झारखंड पैसे ट्रांसफर करता था। ठगी के पैसे के अमेजन कंपनी के कूपन खरीद लोगों के बिजली बिल भरने का काम करता और ग्राहकों से नकदी प्राप्त कर लेता।

Posted By: Kamlesh Bhatt

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!