संवाद सूत्र, दिड़बा (संगरूर)

दिड़बा इलाके के कई शैलरों में आ रहे धान के ट्रकों को किसानों ने शनिवार रात को घेर लिया। यह धान बाहरी राज्यों से आने का आरोप लगाते हुए शैलर के समक्ष धरना लगा दिया।

किसानों ने आरोप लगाया कि प्रशासन की सख्ती के बाद भी धान दूसरे राज्यों से पंजाब आ रहा है। इसे देखते हुए किसानों की तरफ से खुद बाहर से आए ट्रकों को घेरना शुरू कर दिया है।

शनिवार की रात को गांव जनाल व ढंडोली कलां के किसानों ने सतनाम रॉयस मिल जनाल में आधा दर्जन से भी ज्यादा ट्रकों को शैलर में ही घेर लिया है। सारी रात शैलर के गेट के समक्ष किसानों ने धरना लगाया। इसके साथ ही कड़ियाल के एक शैलर में भी आए धान के ट्रकों को किसानों ने घेरकर धरना लगा दिया। किसानों नेताओं ने कहा कि सरकार झूठे दावे कर रही है कि धान पंजाब से बाहर से नहीं आने दिया जाएगा, परन्तु पुलिस की मुस्तैदी होते हुए भी धान शैलरों तक पहुंच रहा है। बोले कि ट्रकों में लाया गया धान घटिया क्वालिटी का है व अच्छी तरह साफ भी नहीं किया गया। इस इलाके में धान की आमद से पहले ही शैलर वाले अपना कोटा बाहर से धान की फसल मंगवा कर पूरा कर लेंगे व स्थानीय धान की खरीद नहीं होगी। उन्होंने कहा कि किसी भी हालत में बाहर से आया धान स्थानीय शैलरों में नहीं लगने दिया जाएगा।

तहसीलदार दिड़बा हरसिमरन सिंह, एसएचओ दिड़बा इंद्रपाल सिंह, फूड सप्लाई इंस्पेक्टर पंकज कुमार व वेयर हाउस के जुगल किशोर भी मौके पर पहुंचे, परन्तु वह भी किसानों का तसल्ली नहीं करवा सगे। इस मौके भारतीय किसान यूनियन उगाहां के नेता दर्शन सिंह शादीहरी,भाकियू सिद्धूपुर के रण सिंह चट्ठा, प्रशोतम सिंह जनाल, गुरमेल सिंह जनाल, जगमेल सिंह ढंडोली खुर्द व अन्य किसान नेता उपस्थित थे।

----------------------- गुरदासपुर जिले से आया है धान, यह गैर कानूनी नहीं

शैलर मालिक हरमेश कुमार ने कहा कि उनका धान एक नंबर में गुरदासपुर जिले से आया है। रिलीज आर्डर काट कर भेजा है। यह गैर कानूनी खरीद का धान नहीं है। वेयर हाउस के इंस्पेक्टर जुगल किशोर ने भी शैलर मालिकों की तरह धान की खरीद को सही कहा है।

Edited By: Jagran