जेएनएन, भवानीगढ़ (संगरूर) : हालांकि पंजाब सरकार व खेतीबाड़ी विभाग द्वारा किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए जागरूकता अभियान अलावा भारी जुर्माने तक किए जा रहे हैं, लेकिन किसान धड़ाधड़ पराली को आग लगाने में लगे हुए हैं। इसके तहत गांव गजूमाजरा में भारतीय किसान यूनियन उगराहां एकता के ब्लॉक प्रधान गुरदेव सिंह व ब्लॉक के सीनियर उपप्रधान गुरविदर सिंह के नेतृत्व में इकट्ठा हुए किसानों द्वारा पराली को आग लगाकर पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। ब्लॉक प्रधान गुरदेव सिंह व सीनियर उपप्रधान गुरविदर सिंह ने कहा कि एक तरफ कर्ज से परेशान हुए किसान पहले ही खुदकुशी करने को मजबूर हैं। तो दूसरी तरफ पंजाब सरकार द्वारा किसानों पर भारी जुर्माने लगाने व केस दर्ज कर उन्हें परेशान किया जा रहा है। पराली का प्रबंधन करने के लिए काफी खर्च आता है। इसलिए पराली को जलाना किसानों की मजबूरी है। किसानों का कहना है कि गत वर्ष उन्होंने रोटावेटर से गेहूं की बोई की गई थी, जिसकी गेहूं की पैदावार काफी कम हुई थी। अब धान की पैदावार कम होने से उनके खर्च बढ़ गए हैं। उन्होंने पंजाब सरकार से पराली प्रबंधन के लिए छह हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवजे व धान की कम पैदावार होने पर दो सौ रुपये बोनस की मांग की। इस मौके किसान महिदर सिंह, सूरत सिंह, हरजिदर सिंह, धन्ना सिंह, गुरमेल सिंह, चंद सिंह, दिलबर सिंह, जोगिदर सिंह के अलावा बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!