जेएनएन, संगरूर। कर्जमाफी की सूची में नाम न आने से परेशान गांव छाजली के किसान बलवीर सिंह पुत्र गुरचरण सिंह ने घर में पंखे से फंदा लगाकर जान दे दी।

मृतक के भाई रघवीर सिंह व भारतीय किसान यूनियन एकता डकौंदा के नेता बाबू राम ने बताया कि बलवीर दो एकड़ जमीन का मालिक था। कोऑपरेटिव सोसायटी के कर्जे सहित अन्य बैंक व आढ़ती का करीब पांच लाख रुपये के कर्जे का बोझ उसके सिर पर था। एक जवान बेटे व दो जवान बेटियों की शादी की चिंता उसे सता रही थी। कुछ समय पहले ही बलवीर ने अपनी बीमार पत्नी के इलाज पर भी काफी खर्च कर दिया था।

पंजाब सरकार की ओर से दो बार कर्जमाफी की सूची जारी करने के बावजूद बलवीर सिंह का नाम उसमें शामिल नहीं हुआ था। सूचना मिलते ही एसएचओ दीपइंद्र जेजी ने मौके पर पहुंचकर शव कब्जे में ले लिया। उन्होंने पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। आप नेता हरबंस सिंह ने पंजाब सरकार से मांग की कि मृतक किसान के परिवार को 5 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए।

यह भी पढ़ेंः कैप्टन बोले- जाखड़ से कोई विवाद नहीं, गलत चर्चाओं से मिली हवा

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!