जागरण संवाददाता, संगरूर

गुरुद्वारा गुरसागर मस्तुआना साहिब में संगत द्वारा किसान संघर्ष में जान गंवाने वाले नवरीत सिंह डिबडिबा व अन्य किसानों की आत्मिक शांति हेतु श्रद्धांजलि भेंट की गई। अकाल कौंसिल द्वारा करवाए समारोह में विभिन्न किसान संगठनों के नेता शामिल हुए व नवरीत सिंह के पारिवारिक सदस्यों को सम्मानित किया। पूर्व वित्तमंत्री व विधायक परमिदर सिंह ढींडसा ने कहा कि नवरीत के बलिदान ने किसान संघर्ष को नई दिशा दी है, जिससे संघर्ष की ताकत कई गुना बढ़ गई है। उन्होंने मस्तुआना ट्रस्ट की ओर से किसान आंदोलन में जान गंवाने वालों के बच्चों को फ्री शिक्षा देने की प्रशंसा की। नवरीत सिंह के दादा हरदीप सिंह ने नौजवानों को आंदोलन का हिस्सा बनने की अपील की। इस मौके अकाल कौंसिल के सचिव जसवंत सिंह खैहरा, गुरजंट सिंह, रजिदर सिंह, गुरबचन सिंह बची, अजीत सिंह चंदूराईया, रामपाल सिंह, सुखदेव सिंह, गुरतेज सिंह, रविदरपाल सिंह, जशन सिंह, बलवंत सिंह, कुलजीत सिंह तूर सरपंच बडरूखां, रणदीप सिंह पूर्व ट्रक यूनियन प्रधान संगरूर, जरनैल सिंह, सुरिदर सिंह आदि के अलावा बड़ी संख्या में किसान व धार्मिक संगठनों के नेता उपस्थित थे।

उधर बरनाला के विभिन्न जगहों पर धरना जारी : कृषि कानून को लेकर किसानों द्वारा आज दिल्ली मोर्चा में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में महिलाओं को आमंत्रित किया गया है व बरनाला से जत्था रवाना किया जाएगा। इसके साथ महिलाओं के लिए 8 मार्च को महिला दिवस के अवसर पर दिल्ली मोर्चा में शामिल होने के लिए एक विशेष आह्वान किया गया व महिला शक्ति प्रदर्शन किया जाएगा। 1 अक्टूबर से लगातार 148 दिनों से संघर्ष किया जा रहा है। जिसके चलते रेलवे स्टेशन पार्किग, आधार माल, बरनाला बाजाखाना रोड शापिग मॉल, धनौला, संघेडा, पेट्रोल पंप समेत बड़बर व महलकलां टोल प्लाजा, भाजपा के जिला प्रधान यादविदर शंटी की रिहायश लकी कालोनी गली नंबर दो व भाजपा पंजाब वाइस प्रधान अर्चना दत्त शर्मा की रिहायश लकी कालोनी गली नंबर पांच समक्ष पक्का मोर्चा लगाकर धरना दिया व संघर्ष जारी रखा गया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप