जेएनएन, भवानीगढ़ (संगरूर) : विदेश जाने की चाहत में ठगी का शिकार हुए नजदीकी गांव फतेहगढ़ भादसों के एक युवक ने परेशान होकर जहर निगल लिया, जिसकी इलाज दौरान मौत हो गई। युवक की मौत के बाद घर पर मातम का माहौल है व घर का एकलौता चिराग भी बुझ गया है। फतेहगढ़ भादसों के युवक ने कर्ज लेकर पुर्तगाल जाने के लिए पांच लाख रुपये एजेंट के माध्यम से दिए, लेकिन गलत कागजों की वजह से उसे दुबई से ही वापस भेज दिया गया। कर्ज वापसी की किश्तें भरने से असमर्थ व विदेश जाने में नाकाम रहे उक्त युवक ने जहर निगल लिया था। कई दिन युवक पटियाला के अस्पताल में जिदगी व मौत से जूझता रहा, लेकिन उसकी मौत ने उसे अपने आगोश में ले लिया। पुलिस ने एजेंट के खिलाफ दर्ज किया मामले में युवक की मौत के बाद धाराओं में वृद्धि कर रही है।

मृतक युवक के पिता हरमेल सिंह निवासी फतेहगढ़ भादसों ने बताया कि उसका बेटा सतनाम सिंह विदेश जाने का इच्छुक था। उसकी पटियाला के एजेंट दलजीत सिंह ने मुलाकात की, जिसने उसे भरोसा दिलाया कि सतनाम को पुर्तगाल भेज सकता है, जिसके लिए पांच लाख रुपये का खर्च होगा। वह इससे पहले भी कई युवकों को विदेश भेज चुका है। पुर्तगाल जाने के लिए सतनाम सिंह के परिवार ने विभिन्न किश्तों में दलजीत सिंह को पहले अढ़ाई लाख रुपये दिए व बाद में और रकम उसे देते रहे। एक लाख रुपये का लोन करवाकर उसके खाते में डलवा दिए। आठ अगस्त को सतनाम सिंह अपने चचेरे भाई कुलविदर सिंह नंबरदार के साथ दिल्ली एयरपोर्ट पर चला गया। नौ अगस्त को फ्लाइट रद हो गई व दस अगस्त को वह दिल्ली से दुबई चला गया। दलजीत सिंह भी सतनाम सिंह के साथ ही गया था व वह कह रहा था कि वह पुर्तगाल में सतनाम को काम दिलाकर ही वापस आएगा। सतनाम दुबई पहुंच गए तो एयरपोर्ट पर उसके दस्तावेज दुरुस्त न होने की बात कहकर दिल्ली एयरपोर्ट पर वापस भेज दिया गया। 11 अगस्त को सतनाम वापस आ गया। इस दौरान भी दलजीत सिंह एजेंट ने सतनाम सिंह के खाते से एक लाख 20 हजार रुपये निकला लिए व अब तक चार लाख 70 हजार रुपये दलजीत सिंह ने हड़प लिए। इसके बाद उन्होंने दलजीत सिंह से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उसने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया। एक दिन दलजीत सिंह उनके घर आया व खाली चेक देकर पैसे वापस करने का वादा करके चला गया। कर्जे की किश्त भरने से बी सतनाम सिंह असमर्थ था, जिसके चलते दो सितंबर को उसने जहरीली दवा पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया और इलाज दौरान उसकी मौत हो गई।

थाना सदर भवानीगढ़ के सब इंस्पेक्टर जजपाल सिंह ने बताया कि सतनाम सिंह के पिता हरमेल सिहं के बयानों के आधार पर पुलिस ने पहले ही दलजीत सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था, युवक की मृत्यु होने के बाद पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के हवाले कर दिया है। मामले में युवक की मौत के उपरांत धाराओं में वृद्धि कर दी गई है। जल्द ही आरोपित को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। घर पर नहीं बचा कोई सहारा

बुजुर्ग हरमेल सिंह ने बताया कि उसका एक ही पुत्र था, जो विदेश जाने की इच्छा में ठगी की भेंट चढ़ गया। आठ वर्ष पहले ही सतनाम सिंह की शादी हुई थी, जिसकी सात व चार वर्ष की दो बेटियां ही हैं। घर का इकलौता चिराग भी बूझ गया है। बुजुर्ग माता-पिता का अब कोई सहारा नहीं रहा। नम आंखों से हरमेल सिंह ने कहा कि सतनाम सिंह की मौत के लिए एजेंट दलजीत सिंह जिम्मेदार है, जिसने उनके पुत्र के साथ धोखा किया व उसे मौत के मुंह में जाने के लिए मजबूर कर दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!