संवाद सूत्र, अमरगढ़ (संगरूर)

स्थानीय शहर के एक व्यक्ति ने पुलिस पर लूट के मामले में कथित तौर पर झूठा मामला दर्ज करने के आरोप लगाए हैं। उधर, पुलिस ने कार्रवाई को बिल्कुल सही ठहराया है।

पीड़ित अमृतपाल सिंह ने बताया कि स्थानीय पुलिस ने दो महीने पहले लूट के मामले में पांच लोगों को नामजद किया था। उनमें से एक को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया था। बाद में जमानत पर उसकी रिहाई हो गई। लूट की घटना सीसीटीवी में कैद हुई थी। पुलिस ने उस पर सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर मामला दर्ज कर दिया, जो बिल्कुल निराधार है।

बीएसटीए के पंजाब प्रधान जोरा सिंह चीमा ने कहा कि पुलिस द्वारा केवल फुटेज व शक के आधार पर मामला दर्ज करना गलत है। उक्त रास्ते से हजारों लोग गुजरते हैं। मामले की गहराई से जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस संबंधी उच्च अधिकारियों को लिखती रूप में भेजा गया है। यदि जांच सही पाई गई तो मामला दर्ज करवाने वालों के खिलाफ संघर्ष शुरु किया जाएगा। शिकायतकर्ता ने कहा कि उसने एसपी को लिखती रूप में कहा है कि वह मामले में आगे कोई कार्रवाई नहीं चाहता।

उधर, एसपी संगरूर ने कहा कि जिला बदलने पर मामला मालेरकोटला भेज दिया है। आगे की कार्रर्वाइ जिला मालेरकोटला पुलिस करेगी। ------------------ पुलिस की कार्रर्वाइ बिल्कुल सही है। पीड़ित के बयान पर ही मामला दर्ज हुआ है। इसमें पांच लोगों को नामजद किया था। --राजन शर्मा, डीएसपी, अमरगढ़

Edited By: Jagran