संवाद सूत्र, जाखल (संगरूर)

नगर पालिका जाखल के अध्यक्ष पद के अविश्वास प्रस्ताव पर मंगलवार को हुई एसडीएम की अगुआई में वोटिग के दौरान 12 सदस्यों ने अध्यक्ष के खिलाफ वोट डाला। इसके बाद अध्यक्ष को पद से मुक्त कर दिया गया। वोटिग को लेकर प्रशासन द्वारा मंगलवार को नगर पालिका कार्यालय से लेकर दोनों तरफ करीब 100 मीटर की दूरी तक बैरिकेड लगाए गए। किसी भी व्यक्ति को कार्यालय के आसपास आने की अनुमति नहीं दी गई।

बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव को लेकर पहले भी बागी पार्षदों द्वारा दोबारा अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था, जिसे लेकर सबसे पहले अविश्वास प्रस्ताव में अध्यक्ष पद को पंजाब एंड हरियाणा उच्च न्यायालय से राहत मिलने पर अध्यक्ष पद की कुर्सी बरकरार रही थी व उपाध्यक्ष पद की कुर्सी चली गई थी। विरोध यहां थमा नही कि फिर से बागी पार्षदों ने अध्यक्ष पद को लेकर अविश्वास प्रस्ताव लाया गया, जिसमें प्रधान के ससुर ने नपा कार्यालय में पंखे से लटकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली थी।

----------------

13 में से 12 ले आए अविश्वास प्रस्ताव

नगर पालिका अध्यक्ष पद की खींचतान को लेकर शहर के कुल 13 वार्डो में से 12 पार्षद अध्यक्ष पद की कुर्सी को लेकर अविश्वास प्रस्ताव लेकर आए हैं। बता दें कि पहले 9 पार्षदों द्वारा विरोध जताया जा रहा था और अब 12 पार्षद ही अध्यक्ष पद को लेकर अविश्वास प्रस्ताव लेकर आए हैं। अविश्वास प्रस्ताव को लेकर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। मंगलवार को नगर पालिका कार्यालय के पास पूरी तरह से पुलिस चौकसी की गई है। पार्षदों के अलावा किसी भी अन्य व्यक्ति को अंदर प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। सुबह से ही नगरपालिका कार्यालय के बाहर पहरा लगा दिया है। इसे लेकर एसडीएम नवीन कुमार टोहाना, डीएसपी बिरम सिंह भी मौजूद रहे।

---------------------

प्रधान ने लगाए प्रशासन पर आरोप

प्रधान सीमा रानी व उसके परिवार के सदस्यों ने इस बात के लिए विरोध जताया कि प्रशासन ने 11 बजे का समय दिया था, लेकिन समय अधिक होने के बाद भी पार्षदों का प्रवेश नगर परिषद कार्यालय में करवाया गया। सीमा रानी ने प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए नारेबाजी कर विरोध जताया, लेकिन प्रशासन की कार्रवाई जारी है। इसके बाद नगर पालिका अध्यक्ष सीमा रानी बैठक का बहिष्कार कर बाहर चली गई कितु 12 नगर पार्षद नगर पालिका कार्यालय में मौजूद रहे। ---------------------- शांतिमय ढंग से हुई वोटिग, 12 वार्षद रहे खिलाफ

एसडीएम नवीन कुमार ने बताया कि नगर पालिका चेयरमैन सीमा गोयल के खिलाफ 12 पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव पारित किया था व उनके खिलाफ वोटिग की गई है, जिसके आधार पर आज से उन्हें नगर परिषद प्रधान पद से पदमुक्त किया गया है। उन्होंने सीमा गोयल व उसके परिवार द्वारा प्रशासन पर लगाए गए आरोपों को निराधार बताया। समय की कोई पाबंदी नहीं थी सभी 12 नगर पार्षद मौजूद रहे, लेकिन प्रधान सीमा गोयल कार्यालय में आने के उपरांत वापस लौट गई, हमने उन्हें बैठक में उपस्थित रहने का आग्रह किया था।

--------------------

किसानों ने लगाया धरना, जताया सांसद व विधायक का विरोध

बैठक के दौरान किसान संगठनों को सिरसा के सांसद सुनीता दुग्गल व गोहाना विधानसभा के विधायक देवेंद्र सिंह बबली के नगर पालिका जाखल में पहुंचने की सूचना मिली तो सैकड़ों की संख्या में किसान विधायक व सांसद का विरोध करने के लिए नगर परिषद कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। इस दौरान किसानों ने सांसद व विधायक के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। किसान नेता लाभ सिंह ने बताया कि सूचना मिली थी कि सांसद सुनीता दुग्गल व विधायक देवेंद्र सिंह नगरपालिका कार्यालय जाखल में पहुंचने वाले हैं, इसलिए उनका विरोध करने के लिए यहां पहुंचे हैं। उन्होंने फैसला लिया है कि उन्हें टोहाना विधानसभा के किसी भी गांव में घुसने नहीं देंगे, जहां भी वह जाएंगे, किसान उनका विरोध करेंगे। उन्होंने कहा कि नगरपालिका की कार्रवाई से उनका कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन सांसद व विधायक यहां पहुंचे तो उनका विरोध करेंगे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021