सुभाष शर्मा, नंगल : नंगल की मनोहारी वादियों में वे सब तमाम संभावनाएं हैं जिससे शहर को विश्व के मानचित्र पर आकर्षक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा सकता है। दुर्गम पहाड़ों में स्थित भाखड़ा बाध से विद्युत उत्पादन के बाद प्रतिदिन शहर की नंगल डैम झील में आने वाले करीब 30000 क्यूसेक पानी को वाटरफॉल तैयार के लिए प्रयोग किया जा सकता है। बीबीएमबी के एक कुशल अभियंता ने भाखड़ा बाध से पाइप लाइन के माध्यम से नंगल शहर में ड्रिंकिंग तथा रॉ वाटर उपलब्ध कराने के मकसद से महत्वाकाक्षी प्लान तैयार करने पर कार्य शुरू किया है ऐसे ही प्रोजेक्ट के तहत यदि वाटरफॉल के लिए पानी भाखड़ा डैम से नंगल तक पहुंचा दिया जाए तो वर्ष भर भाखड़ा बाध व अन्य जगहों की ओर जाने वाले करीब पाच लाख पर्यटकों को शहर में रोककर पर्यटन को बढ़ावा दिया जा सकता है।

13 वर्षो से बंद पड़े पंजाब टूरिज्म डिपार्टमेंट के कदंबा टूरिस्ट कॉम्प्लेक्स को भी अभी तक खोला नहीं गया है हालाकि इस टूरिस्ट कंपलेक्स को खोलने के मकसद से जिला रूपनगर से संबंधित पंजाब विधान सभा के स्पीकर राणा केपी सिंह ने प्रयास शुरू किए हैं।

नहीं है फोटोग्राफी व रुकने की इजाजत

शहर में नंगल डैम के आसपास सुंदर आकर्षक स्थलों पर रुक कर दृश्यों को देखने व फोटोग्राफी करने पर पाबंदी है। डैम के आसपास बने आकर्षक स्थलों को लोहे की जालिया लगाकर बंद किया जा चुका है। इलाके में कोई भी पर्यटक फोटोग्राफी नहीं कर सकता। पर्यटकों के रुकते ही सुरक्षाकर्मियों की कार्रवाई शुरू हो जाती है। उधर, नंगल डैम पर ट्रैफिक जाम की समस्या भी बरकरार रहने से पर्यटकों की परेशानी बरकरार है। इन हालातों पर यदि गंभीरता से विचार करके पुराने नियमों को संशोधित किया जाए तो निश्चित रूप से देशभर ही नहीं बल्कि विश्व भर के पर्यटकों के लिए नंगल शहर आकर्षण का केंद्र बन सकता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!