सुभाष शर्मा, भाखड़ा बांध (नंगल)

भाखड़ा बांध के कैचमेंट एरिया में तेज हो चुकी बारिश के चलते पानी की आवक में वृद्धि जारी है। परिणामस्वरूप डैम की सामान्य जल भंडारण क्षमता 1680 फीट तक पानी पहुंचने के लिए अब मात्र 35 फीट का अंतर रह गया है। अब चिंता की बात लगभग खत्म होती जा रही है। पिछले दिनों कमजोर मानसून से चिंतित भाखड़ा ब्यास प्रबंध बोर्ड ने जलस्तर को लेकर संकटकालीन स्थिति घोषित कर दी थी। भागीदार प्रांतों से पानी की कम मांग का आग्रह कर दिया गया था, लेकिन अचानक दूर तक फैले 56980 स्कवेयर किलोमीटर के विशाल कैचमैंट एरिया में तेज हुई बारिश के चलते जलस्तर अनिवार्य लक्ष्य तक पहुंचना शुरू हो गया है। डैम की विशाल गोबिंद सागर झील के पानी को रोक कर रखे हुए भाखड़ा बांध के 1645 लेबल पर लगे चार फ्लड कंट्रोल गेटों तक पानी पहुंच चुका है। पिछले 24 घंटों में डैम के जल स्तर में 0.92 फीट की वृद्धि हो जाने से डैम का जलस्तर 1645.61 फीट तक पहुंच गया है। वीरवार प्रात: 6 बजे दर्ज आंकड़ों के अनुसार पानी की प्रति घंटा औसतन आवक 35931 क्यूसिक होने के कारण डैम से 19489 क्यूसिकपानी छोड़ कर 158.99 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन किया गया है। ब्यास नदी की आवक 8467 क्यूसिक दर्ज की गई है। बता दें कि इस समय बांध का जलस्तर पिछले साल आज के दिन की तुलना में 27.12 फीट अधिक है।

वीरवार प्रात: 6 बजे भाखड़ा बांध के कंट्रोल रूम में दर्ज आंकड़े

06-09-2018 06-09-2017

जल स्तर 1645.61 फीट 1672.73 फीट

पानी की आवक 35931 क्यूसिक 21312 क्यूसिक

आऊट फ्लो 19489 क्यूसिक 19950 क्यूसिक

ब्यास नदी से आवक 8667 क्यूसिक 8362 क्यूसिक

विद्युत उत्पादन 158.99 लाख यूनिट 171.40 लाख यूनिट

24 घंटे में जल स्तर

में वृद्धि 0.92 फीट 0.07 फीट

सुभाष शर्मा, जागरण संवाददाता, नंगल।

6 सितंबर, 2018

Posted By: Jagran