जागरण संवाददाता, रूपनगर: रूपनगर सिटी पुलिस ने गांव शामपुरा में पिछले छह माह से चलाए जा रहे नशा तस्करी के गिरोह को पकड़ा है। पुलिस ने इस मामले में डबल प्राप्ति ये की है कि गिरोह का सरगना भी गिरफ्तार कर लिया है। कुल तीन आरोपितों को पकड़ा गया है। आरोपितों से शामपुरा में किराये पर लिए कमरे में दो क्विंटल चूरा पोस्त समेत दो कारें (स्विफ्ट और आइ टवेंटी) भी बरामद की हैं। रूपनगर थाना सिटी में प्रेस कांफ्रेंस में डीएसपी (आर) तरलोचन सिंह ने दावा किया कि एसएचओ सिटी पवन कुमार की टीम ने ये नशा बेचने वाले गिरोह पकड़ा है। आरोपित मध्य प्रदेश से चूरा पोस्त की फसल काटे जाने के बाद रा मैटीरियल जिसे डोडे बोला जाता है, की खेप खरीदकर लाते हैं।

इसे शामपुरा में किराये पर लिए कमरे में रखकर आगे रूपनगर जिला, मोहाली और कुराली के इलाके में बेचते हैं। पुलिस के मुताबिक आरोपितों ने छह माह पहले ही शामपुरा में किराये पर कमरा लिया था। मालवाहक वाहनों के माध्यम से मध्य प्रदेश से चूरा पोस्त लाने के बाद उसे स्विफ्ट कार दिल्ली नंबर और आइ टवेंटी कार पंजाब नंबर के जरिये शामपुरा स्थित किराये के कमरे में स्टोर कर लेते थे। कमरे में कांटा लगाकर वहां से चूरा पोस्त किलो के हिसाब से तोलकर बेचते थे। रूपनगर पुलिस ने मौके पर रेड करके आरोपितों जिला लुधियाना के थाना माछीवाड़ा के गांव पोवात के गुरमीत सिंह और गांव शेरगढ़ मंड के गुरदीप सिंह को गिरफ्तार किया। गिरोह का मुख्य सरगना गिल्को वैली के निकट मार्केट से मनप्रीत सिंह को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मनप्रीत ¨सह मूल रूप से थाना माछीवाड़ा के गांव पोवात का ही रहने वाला है।

उसके खिलाफ पहले भी समराला थाना में भी केस दर्ज है। समाना में दर्ज एनडीपीएस एक्ट के मामले पकड़े गए आरोपित को भी मनप्रीत सिंह ने चूरा पोस्त सप्लाई दी थी। सात सौ रुपये कमाते थे प्रति किलो पर डीएसपी (आर) तरलोचन सिंह ने बताया कि आरोपित आइ टवेंटी र स्विफ्ट कार में जाकर चूरा पोस्त खरीदने वाले को सप्लाई भी देते थे। ये लोग तीन हजार रुपये प्रति किलो के हिसाब से चूरा पोस्त की यहां तक पहुंच लेते थे। फिर उसे 36-37 सौ रुपये प्रति किलो के हिसाब से आगे बेचते थे।

शिकायतों के बाद पुलिस ने बढ़ाई थी नफरी डीएसपी तरलोचन सिंह के मुताबिक शामुपार इलाके में पहले भी नशा बेचने के मामलों की शिकायतें आ रही थी। एसएसपी डा.संदीप गर्ग की हिदायतों पर पुलिस इलाके में नशा तस्करों को पकड़ने के लिए सरगर्म थी। पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ की जा रही है। अभी इनसे पूछताछ जारी है और अभी और खुलासे होने की उम्मीद है। नशा तस्करों को बख्शा नहीं जाएगा।