जागरण संवाददाता, रूपनगर :

ढाई माह बाद जिले में स्टांप पेपर की कमी दूर हो गई। हां, बस अब इतना ही बदला है कि पहले स्टांप पेपर सीटीपी पंजाब साइट से स्टांप फरोशों को खरीदने पड़ते थे अब ये आइएफएमएस पंजाब से लेने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। पहले कम दाम वाले स्टांप पेपरों की कमी से लोग जूझ रहे थे।

स्टांप पेपर 50 रुपये से लेकर पांच हजार रुपये और 10 हजार रुपये तक भी होते हैं, लेकिन एक स्टांप खरीदने वाले को 19950 रुपये से ज्यादा के स्टांप नहीं दिए जाते। इससे ज्यादा के स्टांप  खरीदने के लिए ई स्टांप की व्यवस्था है, जोकि 20 हजार से लेकर दो लाख रुपये तक हैं। रोजाना हो रही 10 से 15 रजिस्ट्रियां वसीका नवीस एडवोकेट संदीप कक्कड़ ने बताया कि रोजाना 10 से 15 के बीच रजिस्ट्रियां हो रही हैं। रजिस्ट्रियों के लिए स्टांप पेपर की जरूरत पड़ती है और स्टांप पेपर न मिलने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था।

बाक्स

व्यवस्था हुई दुरुस्त: अनिल धवन

रूपनगर तहसील में स्टांप पेपर की बिक्री करने वाले अनिल धवन ने बताया कि क‌र्फ्यू के दौरान ढाई माह में स्टांप पेपरों की सप्लाई नहीं आई। अब जब रजिस्ट्रियां व अन्य कानूनी कामों को करने की मंजूरी मिल गई है तो स्टांप पेपर सबसे जरूरी हिस्सा हैं और ये ही खत्म हो गए थे और नई सप्लाई नहीं मिल रही थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!