संवाद सहयोगी, नूरपुरबेदी

नूरपुरबेदी क्षेत्र की अनाज मंडियों में पड़ी गेहूं की बोरियां पंजाब सरकार की व्यवस्था का मुंह चिढ़ा रही हैं। लिफ्टिग न होने कारण मंडियों में बोरियों के अंबार लगे हैं। अनाज मंडी सूखे माजरा में लिफ्टिंग की समस्या बनी हुई है। नाज मंडी में बोरियों के ढेर लगे होने के कारण प्रवासी मजदूरों और आढ़तियों में रोष है। आढ़तियों ने बताया कि ब्लॉक नूरपुरबेदी के अंतर्गत पड़ने वाली सूखे माजरा मंडी में एफसीआइ एजेंसी की तरफ से खरीदी गई 65 हजार के करीब गेहूं की बोरियों की लिफ्टिंग न होने के कारण उनको समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। वे दिन- रात अपनी गेहूं की बोरियों की पहरेदारी करने में लगे रहते हैं। उन्होंने प्रशासन और पंजाब सरकार से कहा कि दो दिनों के भीतर भीतर लिफ्टिंग होने की सूरत में उनकी तरफ से संघर्ष शुरू किया जाएगा। प्रवासी मजदूरों ने कहा कि अगर दो दिन के भीतर प्रशासन की तरफ से मंडी में पड़ी गेहूं की बोरियों की लिफ्टिंग न की गई तो वह अपने घर चले जाएंगे। उसके बाद जैसे भी लिफ्टिंग हो, प्रशासन उसका खुद जिम्मेदार होगा। उल्लेखनीय है कि प्रवासी मजदूर अपने घर जाने के लिए पिछले 20 दिन से लिफ्टिंग होने का इंतजार कर रहे हैं क्योंकि जब तक लिफ्टिंग नहीं होती, तब तक उनको वेतन नहीं मिलेगा और वह घर भी नहीं जा पाएंगे। मजदूर पिछले 20 दिन से बिना कोई काम किए मंडियों में बैठे हुए हैं।

दो दिन में लिफ्ट होगी सारी गेहूं: एसडीएम एसडीएम आनंदपुर साहिब कन्नू गर्ग ने कहा कि अगले दो दिनों में सारी बोरियों की लिफ्टिंग हो जाएगी । खरीदार एजेंसी के साथ बात हो चुकी है। यह गेहूं बाहर जाना है, इस कारण लिफ्टिंग में देरी हुई है । अगले दो-तीन दिनों के भीतर सारी गेहूं की फसल की बोरियां उठाई जाएंगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!