संवाद सहयोगी, आनंदपुर साहिब : पानी के गंभीर होते जा रहे संकट को दूर करने के लिए फसली विभिन्नता समय की मुख्य जरूरत है। जिसके अंतर्गत नाबार्ड द्वारा एक प्रोजेक्ट स्वीकार किया गया है। इस संबंधी वक्ता ने बताया कि पंजाब सरकार के मिशन तंदुरुस्त पंजाब के अधीन किसानों तथा जमीदारों को वातावरण को बचाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट के अधीन धान की फसल को छोड़कर मक्का या चारा फसल बीजने के लिए किसान को 23,500 रुपये प्रति हेक्टेयर की सहायता दी जा रही है। इस प्रोजेक्ट को पहले वर्ष ही जिला रूपनगर में काफी प्रोत्साहन मिला है। जिसके अंतर्गत 167 हैक्टेयर धान के क्षेत्रफल को बदल कर मक्का की फसल लगाई गई है। इसके अलावा मक्का बीजने वाले किसानों को उत्साहित करने के लिए राष्ट्रीय अन्न सुरक्षा मिशन के अंतर्गत 480 हैक्टेयर क्षेत्रफल में कलस्टर प्रदर्शनियां लगाई गई हैं। इन क्लस्टर प्रदर्शनियों का निरीक्षण रूपनगर जिले के गांवों में विभाग की टीम में शामिल मुख्य कृषि अफसर रूपनगर डॉ.केसर राम बंगा, सहायक मक्का विकास अफसर पंजाब डॉ.अनिल कुमार तथा कृषि अफसर आनंदपुर साहिब अवतार ¨सह द्वारा किया गया। इस मौके एएमडीओ डॉ.अनिल कुमार ने बताया कि नाबार्ड द्वारा पहले वर्ष 1000 हैक्टेयर क्षेत्रफल का लक्ष्य दिया गया था जोकि पूरा कर लिया गया है।

इस दौरान मुख्य कृषि अफसर रूपनगर डॉ.केसर राम बंगा ने बताया कि सितंबर माह के दौरान क्लस्टर प्रदशनियां तथा फील्ड डे लगाए जाएंगे। जिससे अगले वर्ष मक्का अधिक से अधिक क्षेत्रफल में लगाया जा सके।

Posted By: Jagran