संवाद सहयोगी, आनंदपुर साहिब

आनंदपुर साहिब के गुरुद्वारा तख्त श्री केसगढ़ साहिब में दोआबा जोन का 18वां साप्ताहिक समागम करवाया गया। इस साप्ताहिक समागम मौके एजीपीसी सदस्य ¨प्रसिपल सु¨रदर ¨सह ने कहा कि गुरु सिद्धांत तथा इतिहास की जानकारी के लिए गुर संगत करनी जरूरी है तथा संगत को साप्ताहिक समागमों में शामिल होकर लाभ उठाना चाहिए।

इस समागम की शुरुआत मौके भाई निर्मल ¨सह हजूरी रागी जत्था तख्त श्री केसगढ़ साहिब नें गुरबाणी कीर्तन के साथ संगतें को निहाल किया। इस मौके रागी-ढाडी संगीत अकादमी के बच्चों ने कीर्तन द्वारा अपनी हाजिरी लगवाई।

इस मौके इन बच्चों को विशेष रूप से सम्मानित भी किया गया। इस दौरान भाई सतनाम ¨सह दर्दी के पंथ प्रसिद्ध कविशरी जत्थे द्वारा गुरु-इतिहास से संगत को जानकारी दी। इस मौके प्रसिद्ध प्रचारक भाई जस¨वदर ¨सह शहूर भी विशेष रूप से शामिल हुए तथा संगत को खालसा पंथ के सृजन तथा रहित मर्यादा बारे जानकारी दी। इस समागम के समापन के मौके दोआबा जोन के सब-ऑफिस के अतिरक्त सचिव डॉ.परमजीत ¨सह सरोआ ने बताया कि दोआबा जोन में प्रचारकों, ढ़ाडिओं तथा कविशरी जत्थों को संगत की ओर से भरपूर प्यार मिल रहा है। आज तख्त श्री केसगढ़ साहिब में अमृत संचार मौके 100 प्राणियों नें अमृत की रहमत प्राप्त की। इस मौके मंच संचालक की सेवा भाई रा¨जदरपाल ¨सह द्वारा निभाई गइ। इस समागम के दौरान मैनेजर जसवीर ¨सह, सूचना अधिकारी एडवोकेट हरदेव ¨सह, मन¨जदर ¨सह बराड़, न¨रदर ¨सह मथरेवाल, चरनकमल ¨सह नाभा, सुख¨वदर ¨सह कुरूक्षेत्र, दलजीत ¨सह आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran