जागरण संवाददाता, नंगल: शहर के प्रीत नगर में मंगलवार को झासी की रानी लक्ष्मीबाई का जन्मदिवस मनाया गया। इस दौरान आमजन को बताया गया कि सही मायनों में लक्ष्मीबाई ने जुल्म के खिलाफ लड़ाई लड़ते हुए राष्ट्र में गुलामी की जंजीरों को तोड़ने में शौर्य का प्रदर्शन किया था। योगाचार्य आरएस राणा ने बताया कि लक्ष्मीबाई ने सात दिन तक वीरता का परिचय देते हुए झासी की सुरक्षा की और अपनी छोटी सी सशस्त्र सेना से अंग्रेजों का बड़ी बहादुरी से मुकाबला करते हुए वीरता का परिचय दिया। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के लिए बलिदान का परिचय देने वाली महारानी लक्ष्मीबाई की वीरता के कारण ही उन्हें झासी की रानी कहा जाता है। कार्यक्रम में पहुंचे अन्य बुद्धिजीवियों एसएस कंवर, सुनीता रानी, अनीता रानी, सुरेखा, सुषमा, स्नेह लता व डॉ. देसराज चौधरी ने भी लक्ष्मीबाई की याद में पौधे लगाकर वातावरण की स्वच्छता को बनाए रखने का संकल्प भी लिया। इस अवसर पर अनिल राणा, अशोक राणा, सोढी राणा, विजय ठाकुर, जीत राम खूतन, पंडित कृष्ण चंद्र, शुभकरण फौजी, दीपू राणा, अश्रि्वनी राणा, अनिल कुमार आदि सहित बड़ी संख्या में लोगों ने महारानी लक्ष्मीबाई को याद कर उनके बताए सिद्धातों पर चलने का संकल्प दोहराया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!