जागरण टीम, रूपनगर, आनंदपुर साहिब: विजिलेंस ब्यूरो ने थाना नूरपुरबेदी में तैनात एएसआइ जुझार सिंह को पांच हजार रुपये रिश्वेत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। ये रिश्वत एएसआइ जुझार सिंह ने एक केस में बंद फार्च्यूनर गाड़ी छोड़ने के बदले ली थी। गांव मटौर थाना आनंदपुर साहिब के रहने वाले शिकायतकर्ता बरजिंदर सिंह के मुताबिक उसका चार सितंबर को झगड़ा हुआ था। इस संबंध में उसके खिलाफ 17 सितंबर 2022 को मुकदमा नंबर 126 दर्ज हुआ था। इस मुकदमे में जमानत और गाड़ी को छोड़ने के बदले एएसआइ जुझार सिंह ने दस हजार रुपये रिश्वत की मांग की थी।

मौके पर पांच हजार रुपये ले लिए थे और बाकी पांच हजार रुपये गाड़ी देने के समय लेने की बात व्वाइस रिकार्डिंग में की हुई थी। शुक्रवार को दूसरी किश्त पांच हजार रुपये रिश्वत के रूप में लेने के लिए एएसआइ जुझार सिंह शिकायतकर्ता बरजिंदर सिंह के घर (निकट साईं अस्पताल श्री आनंदपुर साहिब) में गया था, वहां पर विजीलेंस की टीम ने सरकारी गवाहों की मौजूदगी में रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। जांच अधिकारी इंसपेक्टर प्रितपाल सिंह की अगुआई में विजिलेंस की टीम ने आरोपित एएसआइ को पकड़ा है।

मौके पर सरकारी गवाह के तौर पर राज्य कर मोहाली के सहायक कमिश्नर दफ्तर के राज्य कर अधिकारी सरबजीत सिंह और भावना हांडा मौजूद थे। एसएसपी गगनजीत सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनाई जा रही जीरो टालरेंस नीति पर अमल करते हुए ये कार्रवाई की गई है। मोहाली स्थित थाना विजिलेंस ब्यूरो फ्लाइंग स्कैवड में आरोपित एएसआइ के खिलाफ भ्रष्टाचार विरोधी अधिनियम की धारा सात के तहत एफआइआर नंबर 16 दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें-  Punjab Assembly Special session: सरारी मामले पर पंजाब विधानसभा में हंगामा, विजिलेंस कमीशन रीपील बिल 2022 पास

Edited By: Pankaj Dwivedi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट