जागरण संवाददाता, नंगल: निकटवर्ती गाव दड़ौली के परम लोक धाम आश्रम में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम सोमवार को भक्तिमय वातावरण में संपन्न हो गया। कोविड 19 की एडवाइजरी की पालना करते हुए आयोजित सादे कार्यक्रम में दूर दराज से पहुंचे संतजनों तथा धार्मिक शख्सियतों का सम्मान कर कोरोना महामारी जल्द खत्म होने की कामना की गई। कार्यक्रम में स्वामी कृपालानंद पुरी जी महाराज ने कहा कि संत बाई सेवानंद पुरी तथा ब्रह्मलीन गुरु भक्तानंद पुरी के अलावा परम तपस्वी एवं न्यायमूर्ति स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज की प्रेरणा से ही आश्रम में लगातार मानवता का अध्यात्मिक मार्गदर्शन किया जा रहा है। स्वामी जी ने कहा कि सभी जीवन को संस्कारवान बनाने के लिए लगातार धर्म क्षेत्र से जुड़े रहें, क्योंकि अच्छे संस्कारों के कारण मनुष्य पर प्रभु कृपा से ऐसा सुरक्षा कवच बनता है, जिससे उसकी रुचि बुरे कामों की ओर नहीं बढ़ पाती तथा वह सदैव सतकर्मो की तरफ लगा रहता है। स्वामी जी ने संस्कारों के लिए गुरू के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि गुरु के बिना जीवन व्यर्थ है। उनके पथ प्रदर्शन के बिना इस भवसागर को पार करना कठिन ही नहीं, असंभव भी है। अच्छे कर्मो से ही मनुष्य पर प्रभु की दिव्य दृष्टि बनी रहती है। इस दौरान भक्तजनों ने श्री हनुमान चालीसा व सुंदर कांड का पाठ कर सभी को कोविड एडवाइजरी की पालना करने के लिए प्रेरित किया।

इस अवसर पर नंगल इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के पूर्व चेयरमैन कमल देव जोशी, योगाचार्य रछपाल सिंह राणा, सुरेश जोशी, संत राम, दवेंद्र अग्निहोत्री, करनैल राणा, समता पुरी, डा. सोढी लाल, प्रताप चंद दड़ौली, सुमन शर्मा व शाम लाल आदि ने भी सादे कार्यक्रम में शिरकत करते हुए कोरोना की वैश्रि्वक आपदा के जल्द खत्म होने की कामना की।