जागरण संवाददाता, नंगल

इलाके में मनाए जा रहे अग्निशमन सप्ताह के तहत आमजनों को यह बताया जा रहा है कि किस तरह से आग लगने की घटनाओं को रोका जा सकता है। नंगल नगर कौंसिल के दमकल विभाग की ओर से मनाए जा रहे अग्निशमन सप्ताह के तहत चीफ फायर अधिकारी अमरप्रीत सिंह ने कौंसिल के दमकल कर्मचारी विभिन्न विभागों में लोगों को जागरुक करने में जुटे हुए हैं। बताया जा रहा है कि किस तरह से आग लगने के समय राहत कार्य जुटाए जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि एनएफएल तथा पीएसीएल आदि सहित विभिन्न मंडलों मेंकर्मचारियों को जागरुक कर के जहा आग बुझाने के लिए तैयार किए गए उपकरणों संबंधी जानकारी दी जा रही है वहीं आग बुझाने के समय किस तरह के तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है यह भी आमजनों को बताया जा रहा है। प्रदर्शन करके यह बताया कि आपदा के समय किस तरह से अंदर फंसे लोगों को बाहर निकाला जाता है। एनएफएल नंगल इकाई के अंदर पहुंचे कर्मचारियों ने कर्तव्यनिष्ठा से अपनी सेवाओं को जारी रखने की शपथ भी अग्निशमन सप्ताह के तहत लेते हुए यह कहा कि सभी कर्मचारी जरूरी जागरूकता पैदा करने के लिए भी प्रयास जारी रखेंगे। इसलिए जाता है अग्निशमन सप्ताह

14 अप्रैल, 1944 को मुम्बई बंदरगाह में फोर्टस्टीकेन नामक मालवाहक जहाज जिसमें रुई की गाठें, विस्फोटक एवं युद्ध उपकरण भरे हुए थे, में अकस्मात आग लग गई थी। आग को बुझाते समय जहाज में विस्फोटक सामग्री होने के कारण 66 अग्निशमन कर्मी आग की चपेट में आकर वीरगति को प्राप्त हुए थे। इन बहादुर अग्निशमन कर्मियों की स्मृति में प्रत्येक वर्ष 14 अप्रैल को अग्निशमन दिवस मनाया जाता है। अग्निशमन सप्ताह के अंतर्गत नागरिकों को आग से बचाव तथा सावधानी बरतने के संबंध में जागरूक करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। अग्नि सुरक्षा सप्ताह का उद्देश्य नागरिकों को अग्निकाड से होने वाली क्षति के प्रति जागरूक करना तथा अग्निकाड को रोकने एवं अग्नि से बचाव के उपायों के संबंध में शिक्षित करना है। इसके साथ ही सुरक्षित मार्ग की व्यवस्था, अग्निशामक उपकरणों का प्रयोग, आग की स्थिति में बचाव के उपाय, उद्योगों में अग्नि सुरक्षा व सावधानिया, विद्युत अग्नि सुरक्षा व सावधानी, बहुमंजिला भवनों में अग्नि सुरक्षा, विकलाग व्यक्तियों के लिए अग्नि सुरक्षा आदि के बारे लोगों में जागरूकता पैदा करना है।

Posted By: Jagran