संवाद सहयोगी, रूपनगर : एनएचएम कर्मचारियों ने मांगों को लेकर सोमवार को रूपनगर में स्थित पंजाब विधानसभा के स्पीकर के निवास समक्ष धरना लगाया। इस दौरान उन्होंने पंजाब सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। एनएचएम कर्मचारी पिछले 21 दिनों से लगातार हड़ताल पर चल रहे हैं जिसके चलते जिले भर में स्वास्थ्य सेवाओं के साथ साथ कोरोना टीकाकरण व कोरोना सैंपलिग का कार्य बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है। यूनियन के नेता मोहन सिंह के कहा कि राज्य के हर जिले में एनएचएम कर्मचारी पंजाब सरकार से आरपार की लड़ाई का संकल्प लेकर गत 16 नवंबर से पूर्ण हड़ताल पर हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार की उदासीनता कर्मचारियों को उग्र संघर्ष के लिए मजबूर कर रही है।

इस मौके पर यूनियन नेता अमरजीत सिंह ने कहा हैरानी तो इस बात की है कि राज्य भर में स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़ा पंजाब सरकार का सारा सिस्टम बुरी तरह से प्रभावित है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा नियमानुसार भर्ती किए गए सारे कर्मियों की मात्र एक मांग है कि पड़ोसी राज्यों की तरह सारे कर्मचारियों को रेगुलर किया जाए या फिर रेगुलर कर्मियों की तरह बराबर वेतन व अन्य भत्ते देने की व्यवस्था सुनिश्चित बनाई जाए। उन्होंने कहा कि यूनियन द्वारा लिए फैसले के अनुसार सात दिसंबर को जिले भर के एनएचएम कर्मचारियों द्वारा रूपनगर पुलिस लाइन के पास हाईवे पर चक्का जाम करते हुए धरना लगा रोष प्रदर्शन किया जाएगा। इस मौके पर सुखजीत कंबोज सहित रमनदीप सिंह, खुशहाल, परविदर सिंह, सुखविदर कौर, इंद्रजीत, चरणजीत कौर, किरणदीप कौर आदि ने मुख्य रूप से संबोधित किया।

Edited By: Jagran