जागरण संवाददाता, नंगल : संत निरकारी चेरिटेबल फाउंडेशन ने निरंकारी भवन रेलवे रोड में निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा महाराज की प्रेरणा से रक्तदान शिविर आयोजित किया। शिविर का उद्घाटन करते हुए पंजाब विधानसभा स्पीकर व स्थानीय विधायक राणा केपी सिंह ने मिशन की ओर से किए जा रहे समाजसेवी कार्यो की सराहना की। इस अवसर पर स्पीकर ने कहा कि दान की गई रक्त की एक-एक बूंद जरूरत पड़ने पर किसी को जीवनदान दे सकती है। उन्होंने कहा कि रक्तदान महादान है, इसलिए ऐसे आयोजनों में जरूरतमंदों के लिए रक्त करना एक परोपकारी कार्य है। उन्होंने कहा कि संत निरंकारी मिशन पूरे विश्व में रक्तदान करके मानवता लिए सराहनीय कार्य कर रहा है। शिविर में कश्मीरी लाल सरोआ ने बताया कि मानवता को समर्पित रक्तदान शिविरों का आयोजन देशभर में किया जाता है। संत निरंकारी मिशन रक्त को एक सार्वभौमिक मानव जीवन रेखा के रूप में पहचानता है। रक्तदान शिविर में रक्त एकत्रित करने का कार्य बीबीएमबी अस्पताल नंगल व सिविल अस्पताल आनंदपुर साहिब के डॉ. पीपी सिंह, डॉ. राजेश कुमार, हरबख्श सिंह आदि सदस्यों की टीम ने करते हुए 232 श्रद्धालुओं का रक्त जरूरतमंदों के लिए एकत्रित किया। इस मौके पर बीबीएमबी अस्पताल के पीएमओ डॉ. एचएन शर्मा, कांग्रेस अध्यक्ष संजय साहनी, राकेश नैय्यर, उमाकांत शर्मा, पूर्व पार्षद राजी खन्ना, संदीप मित्तल, सीनियर सिटीजन ओपी खन्ना, राकेश मैहता, तरसेम लाल मट्टू, सुंदर सिंह, पार्षद विद्यासागर, शशी संदल, रविंद्र शर्मा, सुरेंद्र कुमार आदि भी मौजूद थे। राणा केपी को किया सम्मानित

स्पीकर राणा केपी का शिविर में पहुंचने पर मिशन के स्थानीयमुखी कश्मीरी लाल सरोया, चंडीगढ़ जोन के जोनल इंचार्ज केके कश्यप, क्षेत्रीय संचालक प्रदीप कुमार, संचालक विनोद कुमार ने स्पीकर का स्वागत करते हुए उन्हें स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। मानवता के लिए बड़ा परोपकार है रक्तदान

निरंकारी भवन रेलवे रोड में लगाए गए रक्तदान शिविर में स्पीकर राणा केपी सिंह ने कहा कि दान की गई एक-एक बूंद किसी संकट की घड़ी में किसी के लिए जीवनदान साबित हो सकती है। मानवता को बचाने के लिए रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं है। उन्होंने कहा कि इस दान के द्वारा हजारों लोगों को नवजीवन प्रदान करने में मिशन द्वारा योगदान दिया जा रहा है, वह अति सराहनीय है। निरंकारी मिशन हमेश करता है प्रेरित

उन्होंने कहा कि निरंकारी मिशन सदैव अपने भक्तों को मानवता के लिए जीवन जीने के लिए प्रेरित करता है। उन्होंने कहा कि मानव शरीर के अन्य अंग आसानी से उपलब्ध हैं, लेकिन मानव रक्त का कोई भी विकल्प उपलब्ध नहीं है। प्रभु परमात्मा की मानव को दी हुई यह अनमोल देन है तथा इसे दान करना नि:संदेह महादान है।

Posted By: Jagran