जागरण संवाददाता, नंगल

शहर से सटे नंगल निक्कू गाव की पूर्व पंचायत सदस्य तारा रानी की निर्मम हत्या को बड़ी साजिश बताते हुए परिजनों ने इस मामले की सीबीआइ से जाच की माग की है। दुबई में कारोबार करने वाले तारा रानी के बेटे राजीव कुमार तथा अन्य परिजनों में शामिल सतपाल राणा आदि ने कहा कि तारा रानी का मर्डर करने के लिए बड़ी साजिश रची गई। इस मकसद से ही उसकी हत्या करने के लिए पिछले चार दिनों से कोलकाता से आए लोग गाव में चादना नामक महिला के घर रुके हुए थे। उन्होंने मर्डर की जाच सीबीआइ से करवाने की मांग कि , ताकि इस साजिश का पर्दाफाश हो सके। राजीव कुमार ने कहा कि जब तक परिजनों को न्याय नहीं मिलेगा, तब तक तारा रानी का संस्कार नहीं किया जाएगा और सड़क मार्ग पर शव को रखकर रोष प्रदर्शन शुरू किया जाएगा। बता दें कि तारा रानी का शव गांव की ही आरोपित चांदना नामक महिला के घर के पीछे झाड़ियों में एक कूड़े के ढेर पर बोरी में लिपटा वीरवार को मिला था। ऊधर पुलिस के मुताबिक तारा रानी आरोपित महिला चांदना से उधार दिए गए 14 हजार रुपये लेने गई थी, जहां उसकी हत्या कर दी गई। इस मौके पर मौजूद अन्य परिजनों मोनिका रानी, सोमा, रिक्की आदि ने कहा कि तारा रानी गाव की एक ऐसी लोकप्रिय छवि थी, जो लंबे समय से लोगों के दुख- सुख से जुड़ी हुई थी। उनके मर्डर से गाववालों में आक्रोश है। वहीं अभी तक तारा रानी का शव मोर्चरी में ही रखा हुआ है। मोबाइल मिले, तो खुल सकते हैं कई राज

तारा रानी के बेटे राजीव कुमार ने बताया कि हैरानी की बात है कि उनकी मा तारा रानी का मोबाइल अभी तक नहीं मिला है, जबकि अन्य जेवरात पुलिस ने बरामद कर लिए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस आरोपित महिला चादना से सख्ती से पूछताछ नहीं कर रही है। इस बात का पता मोबाइल मिलने पर ही लग सकता है कि चांदना ने तारा रानी को फोन करके अपने घर बुलाया था या फिर तारा रानी खुद उधार राशि को लेने के लिए चांदना के घर गई थी। परिजनों के अनुसार मोबाइल फोन का मिलना बेहद जरूरी है, तभी हत्या की बड़ी साजिश का पर्दाफाश हो सकता है।

आरोपितों को पकड़ने के लिए पुलिस टीम कोलकाता रवाना

वहीं नंगल थाना प्रभारी पवन चौधरी ने कहा है कि आरोपित महिला चांदना को अदालत में पेश करके पांच दिन के पुलिस रिमांड पर लिया जा चुका है। उन्होंने पुलिस कार्यप्रणाली पर परिजनों की ओर से जताए असंतोष को नकारते हुए कहा कि गिरफ्तार की गई महिला से जरूरत के अनुसार की गई पूछताछ के परिणामस्वरूप ही आरोपितो का पता लगा है। नामजद अन्य आरोपितों को पकड़ने के लिए नंगल पुलिस कोलकाता रवाना हो चुकी है। सीबीआइ से जांच करवाने की मांग को लेकर उन्होंने कहा कि ऐसी जांच नंगल पुलिस नहीं, बल्कि पंजाब सरकार के आदेशों से ही हो सकती है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!