संवाद सूत्र, कीरतपुर साहिब: लाटरी और कमेटी के नाम पर भोले -भाले किसान मजदूरों से करोड़ों रुपये की ठगी मारने के आरोप में थाना कीरतपुर साहिब में चार व्यक्तियों और दो महिलाओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। थाना कीरतपुर साहिब के एसएचओ इंस्पेक्टर सुमित मोर ने बताया कि छह जनवरी 2022 को निर्मल कौर निवासी आलोवाल और गुरमीत सिंह पुत्र महिदर सिंह निवासी गांव भटोली थाना कीरतपुर साहिब और प्रकाश कौर समेत कुछ व्यक्तियों ने एसएसपी रूपनगर को एक लिखित शिकायत दी थी कि जसपाल सिंह जस्सा निवासी गांव कल्याणपुर थाना कीरतपुर साहिब ने अपने अन्य साथियों के साथ मिल कर औलख इंटरप्राइज नाम की कंपनी बना कर हर व्यक्ति को कार, मोटरसाइकिल और अन्य कीमती सामान देने का वादा कर लाटरियां और कमेटियां डालने का धंधा शुरू किया था। इसमें किसान मजदूरों के पास से करीब लाखों रुपये लेकर उनके साथ ठगी मारी थी। इसके अलावा दो हजार के करीब परिवार भी इन लोगों का शिकार हुए हैं। पैसे मांगने पर जसपाल सिंह पहले तो कहता रहा कि वह उनके पैसे वापस कर देगा, लेकिन समय बीतने के साथ पंजाब में किसान आंदोलन शुरू हो गया और उक्त व्यक्ति खुद को किसान नेता कहलाने लग पड़ा और उसने उन्हें डराना धमकाना शुरू कर दिया। बाद में उनको पता लगा कि जसपाल सिंह न तो किसान नेता है और न ही कोई दुकान करता है। उसका काम सिर्फ भोले -भाले लोगों के साथ धोखाधड़ी करना है। इंस्पेक्टर सुमित मोर ने बताया कि एसएसपी रूपनगर द्वारा यह शिकायत डीएसपी आनंदपुर साहिब को जांच के लिए मार्क की गई थी। जांच में यह बात सामने आई कि जसपाल सिंह ने औलख इंटरप्राइज नाम की कंपनी बना कर लाटरी डालने का धंधा शुरू किया था। जिसमें कुल छह मेंबर पार्टनर थे। उन्होंने 12 महीनों की कमेटी स्कीम बनाई हुई थी, जिसकी कुल रकम 15300 रुपये बनती थी। उन लोगों द्वारा कमेटी में हर महीने तीन ड्रा निकालने थे। जिन लोगों का ड्रा नहीं निकलता था, उन को बाद में एलइडी, फ्रिज, इंवर्टर बैटरियां तोहफे देने थे। बाद में न तो इनको तोहफे दिए गए और न ही उनके पैसे वापस किए गए। इस पर जसपाल सिंह , उसकी पत्नी इंद्रजीत कौर और बहन जसविदर कौर के अलावा जसविदर सिंह, जसवंत सिंह, सुरजीत सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

Edited By: Jagran