मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, नूरपुरबेदी: नूरपुरबेदी के निकटवर्ती गांव असमानपुर के अध्यापक संघर्ष में पिछले लंबे समय से अहम योगदान देने वाले साहसी नेता मास्टर हरभजन ¨सह का रविवार को निधन हो गया है। बता दें कि मास्टर हरभजन ¨सह ने अध्यापकों को पक्का करवाने के लिए किए जा रहे संघर्ष के दौरान वर्ष 1978 में 78 दिनों तक जेल भी काटी थी। उनकी मौत पर अलग-अलग जत्थेबंदियों के नेताओं ने गहरा शोक जताया है। उनकी मौत पर हलका विधायक रूपनगर अमरजीत ¨सह संदोआ, कर्मचारी नेता तरलोचन ¨सह राणा, सुच्चा ¨सह खटड़ा, जीटीयू पंजाब प्रधान सुख¨वदर ¨सह चाहल, महासचिव कुलदीप ¨सह दौड़का, गुरनैब ¨सह जेतेवाल, गुर¨वदर ¨सह सस्कौर, अमरीक ¨सह समीरोवाल, जिला परिषद सदस्य डॉ. देसराज नंगल, डॉ. प्रेमदास बजरूड़, बलवीर ¨सह भट्टों, ब¨जदर पंडित, जरनैल ¨सह औलख, भू¨पदर ¨सह बजरूड़, इंस्पेक्टर राधे कृष्ण, गुरमीत ¨सह रायपुर, मास्टर रामप्रकाश कांगड़, बख्शीश ¨सह कोलापुर, हरकेत ¨सह कोलापुर, ब्लॉक कांग्रेस प्रधान जसवीर ¨सह, दर्शन कुमार, प्रीतम ¨सह कनाडा, न¨रदर बग्गा नूरपुरबेदी, मास्टर मोहन ¨सह भैनी, मास्टर जगन्नाथ भंडारी, रामप्रकाश ¨झजड़ी, कामरेड मोहन ¨सह धमाणा, दर्शन ¨सह ढाहां, गुरदीप ¨सह बेला, न¨रदरपाल तख्तगढ़ आदि ने गहरा शोक जताया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!