जागरण संवाददाता, नंगल

विगत पाच सालों से जीपीएफ की स्टेटमेंट न मिलने को लेकर परेशान कर्मचारियों को राहत दिलाने के लिए भाखड़ा बाध परियोजना के मान्यता प्राप्त कर्मचारी संगठन स्टेट एलोकेटेड इंप्लाइज यूनियन ने कोशिश शुरू की है। स्टेटमेंट के लिए जरूरी जानकारी व दस्तावेज हासिल करने के लिए यूनियन के पदाधिकारी रणजीत सागर बांध पहुंचे और वहां पर रिकॉर्ड तलाशा। यूनियन के प्रेस सचिव अजय शर्मा ने बताया कि अध्यक्ष यशपाल व महासचिव मदन गोपाल कौशल की ओर से तैयार किए गए प्लान के अंतर्गत ही यूनियन के वरिष्ठ उपप्रधान होशियार सिंह राणा तथा निर्मलजीत आदि ने रणजीत सागर बांध के कार्यालय में जाकर स्टेटमेंट के लिए जरूरी रिकॉर्ड प्राप्त किया है। लगभग 50 प्रतिशत दस्तावेज मिल चुके हैं, जिनके माध्यम से बीबीएमबी में काम कर रहे रणजीत सागर बांध के कर्मचारियों को जल्द जीपीएफ के स्टेटमेंट मिल जाएंगे। अगले हफ्ते फिर नंगल से यूनियन के प्रतिनिधि रणजीत सागर बांध जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि भाखड़ा ब्यास प्रबंध बोर्ड की भाखड़ा बांध परियोजना, पौंग बांध परियोजना तलवाड़ा तथा ब्यास सतलुज लिंक परियोजना के अधीन काम कर रहे उक्त बांध परियोजना के करीब 500 कर्मचारियों को पांच सालों से स्टेटमेंट नहीं मिली हैं। दर्जा चार कर्मचारियों में काफी रोष पाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जीपीएफ खाते से बच्चों की शादी या बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ मकानों का निर्माण करने जैसे कई जरूरी कायरें के लिए कर्मचारी स्टेटमैंट न मिलने के कारण जीपीएफ लेने में परेशानी झेल रहे हैं। कर्मचारियों को यह भी पता नहीं है कि उनके जीपीएस के खाते में कितनी बैलेंस राशि है। जीपीएफ का समय पर उपयोग नहीं हो पा रहा है। ऐसे में यह जरूरी है कि जल्द पंजाब सरकार तथा बीबीएमबी प्रशासन इन कर्मचारियों को जीपीएफ के स्टेटमेंट दिलाने की दिशा में गंभीरता से कार्रवाई करे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!