संवाद सहयोगी, रूपनगर : रूपनगर के थर्मल प्लांट के सिविल सर्किल के कांट्रैक्ट कर्मचारियों की मांगों के पक्ष में समाजसेवी संस्था कुदरत दे सब बंदे ने जिला प्रशासन के माध्यम से मुख्यमंत्री को मांगपत्र भेजा। इसमें सारी मांगों को बिना देरी पूरा करने की मांग उठाई है।

संस्था के अध्यक्ष विक्की धीमान ने कहा कि थर्मल प्लांट में गत 20-25 वर्षों से सिविल सर्किल में कांट्रैक्ट पर 450 कर्मचारी मामूली वेतन पर काम करते आ रहे थे। इनमें से कुछ की मौत हो चुकी है। जबकि कुछ के सेवानिवृत्त होने के बाद अब इन कर्मचारियों की संख्या घटते हुए 350 रह गई हैं। जो लगातार रेगुलर किए जाने की मांग उठाते आ रहे हैं। पहले डीसी रेटों में बढ़ोतरी होती रही है, लेकिन अब बढ़ोतरी भी बंद हो चुकी है जबकि महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि पहले तो सरकार केवल झूठे वादे ही करती रही है, लेकिन अब कर्मचारियों के बढ़ते विरोध को देखते हुए सरकार ने सफाई सेवकों को रेगुलर करने के लिए मैनेजमेंट से लिस्ट मांगी है, लेकिन हैरानी इस बात की है कि मैनेजमेंट ने 350 कर्मचारियों में से केवल 231 की लिस्ट ही भेजी है। जबकि शेष को नजरअंदाज कर दिया गया है जोकि अन्याय है। इस मामले में सांसद मनीष तिवारी ने भी संज्ञान लिया था, लेकिन मैनेजमेंट ने उनकी बात को नजरअंदाज कर दिया है। उन्होंने मांगपत्र के माध्यम से पंजाब सरकार से मांग की कि भेजी गई लिस्ट को रद करते हुए सारे कर्मचारियों को लिस्ट में शामिल कर रेगुलर किया जाए। इस मौके पर कमलजीत कुमार, बलदेव सिंह, पुरुषोत्तम लाल, जसवीर सिंह, मनजीत सिंह, गुरचरण सिंह, रामानंद कुमार, कमलजीत सिंह आदि विशेष रूप से हाजिर थे।

Edited By: Jagran