संवाद सहयोगी, नूरपुरबेदी : सरकार के मैरीटोरियस स्कूलों में दाखिले के लिए शिक्षा विभाग द्वारा लिए जाने वाले टेस्ट की रजिस्ट्रेशन के लिए घोषित अंतिम तारीख संबंधी पता न चलने पर अधिकतर विद्यार्थी रजिस्ट्रेशन से वंचित रह गए हैं। उल्लेखनीय है कि यह पहला मौका है जब सरकार द्वारा विद्यार्थियों के 10वीं कक्षा के पेपरों से पहले ही मैरीटोरियस स्कूलों के दाखिले के लिए होने वाले टेस्ट के लिए पंजीकरण किया गया है।

जबकि इससे पहले 10वीं कक्षा का परिणाम घोषित होने के बाद ही 11वीं व 12वीं कक्षा की पढ़ाई के लिए उक्त स्कूलों के लिए टेस्ट की रजिस्ट्रेशन की जाती रही है। इसके चलते ही अधिकतर उत्कृष्ट विद्यार्थी इसका पता न चलने पर उक्त रजिस्ट्रेशन करवाने में असफल रहे हैं। विद्यार्थियों के अतिरिक्त अध्यापक भी सरकार व शिक्षा विभाग के इस निर्णय से चकित हैं। 70 फीसदी से अधिक अंक हासिल करने वाले विद्यार्थियों को उक्त आवश्यक टेस्ट पास करने के बाद उक्त स्कूलों में प्रवेश मिलता है और यहां उनकी शिक्षा बिलकुल मुक्त होती है। पंजाब में ऐसे करीब 8 से 10 स्कूल हैं। आज यहां एकत्र हुए विभिन्न स्कूलों की छात्राओं में शामिल प्रतिभा शर्मा, गुरप्रीत कौर, पूजा, हरमनप्रीत कौर व कृषिका ढंड ने बताया कि स्कूलों के बंद होने और कोरोना संकट के चलते उन्हे रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख 31 मार्च का पता नहीं चल सका। उन्होंने पंजाब सरकार से मांग की कि उक्त स्कूलों में दाखिले के लिए टैस्ट हेतू रजिस्ट्रेशन की तारीख बढ़ाई जाए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप