संवाद सहयोगी, रूपनगर: रूपनगर में पंजाब सरकार के मिशन तंदुरुस्त पंजाब को लेकर जारी विभिन्न गतिविधियों के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस विभाग व डेयरी विभाग के सहयोग से गांव बूरमाजरा में स्थित एक डेयरी की अचानक चे¨कग करते हुए उक्त डेयरी को सील कर दिया है। इस डेयरी में बड़ी मात्रा में दूध व दूध से बनाए गए उत्पाद स्टोर किए हुए थे। प्राप्त की गई जानकारी के अनुसार डीसी डॉ. सुमीत जारंगल ने मंगलवार रात को सहायक फूड कमिश्नर डॉ. सुखराव ¨सह सहित डीएसपी नवरीत ¨सह विर्क के अलावा डेयरी विकास विभाग पंजाब के मेंबर दर्शन ¨सह, हरइंद्र ¨सह तथा प्रोग्रेसिव डेयरी फार्मिंग एसोसिएशन के अवतार ¨सह पर आधारित टीम बनाते हुए इस टीम को गांव बूरमाजरा में स्थित हरजीत कंग डेयरी की चे¨कग करने के आदेश जारी किए। डीसी के आदेशों पर इस टीम ने तुरंत कार्रवाई करते हुए लगभग मध्य रात्रि डीसी द्वारा बताई गई डेयरी पर छापा मारते हुए चे¨कग की जिसके बाद की गई कार्रवाई की रिपोर्ट डीसी को भेजी गई। डीसी डॉ. सुमीत जारंगल ने बताया कि सहायक फूड कमिश्नर डॉ. सुखराव ¨सह व डीएसपी नवरीत ¨सह विर्क के नेतृत्व वाली टीम ने जब हरजीत कंग की डेयरी पर छापा मारा उस वक्त डेयरी में 11 क्विंटल 75 किलो पनीर, 200 लीटर दूध, 125 किलो दूध से निकाली गई क्रीम, 535 किलो दही तथा 10 किलो मक्खन स्टोर किया हुआ था। उन्होंने बताया कि इस चे¨कग के दौरान डेयरी में बहुत ज्यादा गंदगी पाई गई है जबकि डेयरी का मालिक मौके पर दूध व दूध से बने उत्पाद बेचने का लाइसेंस भी पेश नहीं कर सका। उन्होंने बताया कि इस मौके सहायक फूड कमिश्नर डॉ. सुखराव ¨सह के द्वारा पनीर के दो सैंपल, दूध का एक सैंपल, घी का एक सैंपल, क्रीम का एक सैंपल, दही का एक सैंपल तथा मक्खन का एक सैंपल (कुल सात सैंपल) भरते हुए सारा माल डेयरी के कोल्ड रूम में रखवाते हुए डेयरी को सील कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि डेयरी से दूध व दूध से बनाए गए उत्पादों के जो सात सैंपल भरे गए हैं उन्हें फूड एनालिस्ट पंजाब के दफ्तर टे¨स्टग के लिए भेजा गया है तथा उसकी जो भी रिपोर्ट आएगी उसके आधार पर कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। डीसी ने जिलेभर के डेयरी मालिकों को सख्त हिदायत दी है कि वे दूध व दूध से उत्पाद बनाते वक्त तथा उन्हें स्टोर करते वक्त सफाई का खास तौर पर ध्यान रखें। उन्होंने डेयरी मालिकों सहित हलवाइयों को चेतावनी देते हुए स्पष्ट रूप से कहा कि कोई भी डेयरी वाला या हलवाई फूड लाइसेंस के बिना कोई भी सामान नहीं बेच सकता। उन्होंने डेयरी मालिकों व हलवाइयों को फूड एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन करवाने के निर्देश भी दिए तथा यह भी कहा कि अगर बिना लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन कोई पकड़ा जाता है तो उसे छह माह तक के कारावास की सजा व तीन लाख रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। उन्होंने यह भी स्पष्ट रूप से कहा कि जिलेभर में पंजाब सरकार के मिशन तंदुरुस्त पंजाब के तहत सेंप¨लग की जा रही है व इस अभियान के दौरान अगर कोई घटिया सामान बनाता या स्टोर करता अथवा बिक्री करता पकड़ा गया तो उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran