जागरण संवाददाता, रूपनगर

एक तरफ सरकार सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की तादाद बढ़ाने तथा विद्यार्थियों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध करवाने के लिए योजनाएं अमल में ला रही है, लेकिन दूसरी तरफ ठेकेदार ही योजनाओं का बंटाधार करने पर तुले हैं। जिले में आनंदपुर साहिब ब्लॉक के स्कूलों में मिड डे मील स्कीम के अधीन अनाज सप्लाई में अनाज खुर्द बुर्द करने के मामले में पनसप प्रबंधन ने ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट कर दिया है। जिला लुधियाना के गांव घनानसू के रहने वाले ठेकेदार रमनदीप ¨सह की सिक्योरिटी राशि जब्त कर ली है। करीब एक साल की सप्लाई किए गए अनाज की जांच में पाया गया कि अप्रैल 2017 से लेकर फरवरी 2018 के बीच सप्लाई की गई गेहूं में 102 ¨क्वटल तथा चावल 237 ¨क्वटल कम सप्लाई किए गए। यही नहीं, जिला शिक्षा विभाग ने भी पाया कि ठेकेदार ने अनाज की ढुलाई के सर्टिफिकेट जो पनसप में जमा करवाए हैं, उन पर बीपीईओ आनंदपुर साहिब के जाली हस्ताक्षर किए गए हैं।

बता दें कि ठेकेदार रमनदीप ¨सह को आनंदपुर साहिब ब्लाक में पड़ते स्कूलों में साल 2017-18 के दौरान मिड डे मील स्कीम के अधीन अनाज वितरण के लिए ठेका दिया गया था। इस संबंध में ठेकेदार ने स्कूलों को अनाज सप्लाई कर दिया। फिर दफ्तर जिला पनसप द्वारा जिला शिक्षा दफ्तर रूपनगर को 1 जनवरी 2018 से लेकर 31 मार्च 2018 तक के समय दौरान बांटे गए अनाज के बिल वैरीफाइ करने के लिए भेजे गए थे। जिला शिक्षा विभाग द्वारा सप्लाई किए गए अनाज की रि-कंसीलेशन करने संबंधी कहा गया था। डीईओ रूपनगर तथा जिला मैनेजर पनसप रूपनगर द्वारा 7 जुलाई को बैठक रखी गई थी और ये फैसला लिया गया था कि 1 अप्रैल 2017 से लेकर 31 फरवरी 2018 के दौरान आनंदपुर साहिब ब्लॉक में बांटे गए मिड डे मील अनाज की रि-कंसीलेशन की जाए। ये रि-कंसीलेशन 9 जुलाई 2018 तथा 10 जुलाई 2018 को हुई। ठेकेदार द्वारा जो अनाज वितरित किया गया, उसमें शिक्षा विभाग के पास जो रसीदें अनाज सौंपने वक्त दी गईं और पनसप के पास जो रसीदें हैं, उनमें अंतर है। जिसमें पहले क्वार्टर (तिमाही) में 44 ¨क्वटल गेहूं, 111 ¨क्वटल चावल, दूसरे क्वार्टर (तिमाही) में 3 ¨क्वटल गेहूं, 66 ¨क्वटल चावल, तीसरे क्वार्टर (तिमाही) में 31 ¨क्वटल गेहूं तथा 33 ¨क्वटल चावल तथा चौथे क्वार्टर (तिमाही) में 24 ¨क्वटल गेहूं तथा 26.55 ¨क्वटल चावल की सप्लाई में अंतर पाया गया। टेंडर की शर्तों मुताबिक किया गया ठेकेदार ब्लैक लिस्ट मिड डे मील टेंडरों की शर्तों की धारा 8 तथा 10 के तहत ठेकेदार रमनदीप ¨सह की जमानत राशि जब्त करके उसे ब्लैक लिस्ट किया गया है। इसके अलावा चौथे क्वार्टर का सर्टिफिकेट प्राप्त न होने के कारण जिला शिक्षा अधिकारी रूपनगर से बिल समय पर वेरीफाइ न होने पनसप को ब्याज की हानि हुई है। बीपीईओ के ठेकेदार ने ढुलाई के सर्टिफिकेट पर जाली हस्ताक्षर भी किए हैं।

नीतिन चौधरी, जिला मैनेजर, पनसप रूपनगर, मोहाली

Posted By: Jagran