जागरण संवाददाता, रूपनगर: लौंगोवाल में स्कूल बच्चों के साथ हुए हादसे के बाद रूपनगर में मंगलवार को दूसरे दिन भी भी एसडीएम हरजोत कौर ने स्कूल वाहनों की चेकिग की। हालांकि इस दौरान एसडीएम ने कोई चालान या वाहन इंपाउंड नहीं किया, लेकिन सभी वाहनों की बारीकि से जांच की। मंगलवार को दूसरे दिन रूपनगर शहर व आसपास के इलाके के स्कूलों के बाहर लगने वाला थ्री व्हीलर का जमघट नहीं दिखा। गौर हो कि शहीद भगत सिंह चौक (बेला चौक) में से शहर के प्रमुख तीन स्कूलों डीएवी पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल, गांधी मेमोरियल नेशनल स्कूल और सरकारी सीनियर सेकेंडरी (लड़कियां) स्कूल के विद्यार्थी थ्री व्हीलर में बैठकर इंडस्ट्रियल एरिया आसरों समेत अन्य कस्बों व गांवों को जाते थे। यह थ्री व्हीलर ओवरलोड होकर और नियमों के विपरीत बच्चों को बिठाकर ले जाते थे, लेकिन प्रशासन की सख्ती के बाद सोमवार दोपहर से ही ये थ्री व्हीलर सड़कों से गायब हैं। मंगलवार को भी थ्री व्हीलर दिखाई नहीं दिए। इससे परिजनों को बच्चों को लाने और ले जाने में बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ा।

बता दें कि पहले दिन जिले में 160 स्कूल बसों के चालान और 30 वाहनों को अनियमितताओं के चलते इंपाउंड किया गया था। सभी मापदंड किए जा रहे चेक: एसडीएम एसडीएम हरजोत कौर ने बताया कि उन्होंने शहीद भगत सिंह चौक (बेला चौक) में नाका लगाकर स्कूल बसों की जांच की। सेफ स्कूल वाहन स्कीम के तहत सभी मापदंडों को देखकर बसों की जांच की गई। इनमें बस का पीला रंग होना, वाहन में क्षमता के मुताबिक बच्चे बैठाना, सीसीटीवी कैमरा, अग्निशमन यंत्र, आरसी, इंश्योरेंस, परमिट स्कूल का नाम व स्कूल प्रिसिपल या प्रबंधकों का संपर्क नंबर आदि की जांच की गई। उन्होंने कहा कि यह जांच आगे भी अकस्मात की जाएगी।

हादसे के बाद की अप टू डेट सुविधाएं जागरण टीम की मंगलवार को पड़ताल में सामने आया कि संगरूर के लोंगोवाल में हुए दर्दनाक हादसे से पहले तक प्रशासन और स्कूल प्रबंधक बेपरवाह थे। हादसे वाले दिन और अगले दिन कई प्राइवेट स्कूलों ने अपने स्कूलों की वैन में अग्निन शमन यंत्र समेत अन्य सुविधाएं अप टू डे की हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!