संवाद सहयोगी, रूपनगर : सरकारी कॉलेज में हृदय रोग, कैंसर व शूगर को लेकर जहां विशेष सेमिनार आयोजित किया। वहीं विद्यार्थियों के भाषण मुकाबले भी करवाए।

सेमिनार की अध्यक्षता करते प्रिसिपल डॉ. संत सुरिदरपाल सिंह ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं की गुणवता को लेकर भारत विश्व के 195 देशों में 178वें नंबर पर है जोकि गंभीरता से मंथन करने का विषय है। 2016 के दौरान देश मे 60 लाख से अधिक लोगों की मौत हृदय रोग के कारण हुई। विश्व स्वास्थ्य संगठन की माने तो भारत पर विभिन्न बीमारियों से निपटने के लिए हर साल 237 बिलियन डालर का खर्चा पड़ रहा है, जबकि 33 फीसद लोग गत 30 वर्ष से विभिन्न बीमारियों से जूझ रहे हैं जिनमें 62 मिलियन लोग शूगर से पीड़ित हैं व इनमें 7.2 फीसद युवा हैं। यह भी बताया कि भारत में 48.2 मिलियन बच्चे कुपोषण का शिकार हैं जिनमें पांच से कम आयु के 35 फीसद बच्चे हैं। इसका मुख्य कारण लोगों का बिगड़ा खानपान व शारीरिक काम से परहेज करना है। उन्होंने सभी से अपील की कि पौष्टिक एवं संतुलित आहार लेने के साथ साथ फास्ट फूड से परहेज करें, जबकि हर दिन व्यायाम भी करें। इसके साथ ही 40 की आयु के बाद नियमित स्वास्थ्य जांच की सलाह भी दी।

पौष्टिक आहार पर दलजीत का भाया भाषण

वहीं, भाषण मुकाबलों में बच्चों ने पौष्टिक आहार और व्यवहार पर बल दिया। सभी ने सुबह गर्म पानी पीने के साथ साथ कम नमक का प्रयोग करने के अलावा हरी सब्जियां, दालों, मौसमी फलों, बादाम, अखरोट, सौगी, मूंगफली, पिस्ता, आंवला, हल्दी, टमाटर, अदरक, छोटी का सेवन करते रहने के लिए कहा। मुकाबलों में बीए बाग एक की दलजीत कौर ने पहला, बीए बाग दो के नितेश कुमार ने दूसरा, एमए भाग दो की वंदना ने तीसरा स्थान हासिल किया। विजेताओं को प्रिसिपल द्वारा पुरस्कृत किया। इसके अलावा नशा विरोधी लहर के लिए सराहनीय कार्य करने पर सिमरनदीप कौर, सिमरन कौर व सुमितप्रीत सिंह को भी सम्मानित किया गया। मौके पर प्रोफेसर विपन हाजिर थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!