जागरण संवाददाता, पटियाला : द क्लास फोर्थ गवर्नमेंट इंप्लाइज यूनियन पंजाब ने पंजाब सरकार द्वारा वर्ष 2020 के लिए सूची जारी कर 25 सरकारी और 31 आरक्षित अवकाश के ऐलान पर असहमति जतायी है। यूनियन नेताओं ने कहा कि इस बार भी कांग्रेस सरकार महान शिकागो के शहीदों को भूल गई है। अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस को समर्पित मई डे के सरकारी अवकाश को आरक्षित अवकाश में डाल दिया है। ऐसा करके पंजाब सरकार ने पंजाब में काम करने वाले मजदूरों व मुलाजिम विरोधी होने का सबूत दिया है।

मुलाजिम नेताओं दर्शन सिंह लुबाना, बलजिंदर सिंह, दीप चंद हंस, जगमोहन, सूरज यादव, राम लाल रामा, राम किशन, मलकीत सिंह, गुरदर्शन सिंह, सुखदेव सिंह झंडी, जसवंत सिंह, शाम सिंह, काका सिंह और अमृत लाल ने सरकार के फैसले का विरोध किया। मुलाजिमों ने मांग की कि पंजाब सरकार अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस के आरक्षित अवकाश को सरकारी अवकाश में तबदील करे, क्योंकि मई डे मजदूर, मुलाजिमों का एक ऐतिहासिक त्योहार है जो 1886 से संसार भर में मनाया जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!