जागरण संवाददाता, पटियाला : लंबे समय से पक्का करने की मांग कर रहे शिक्षा प्रोवाइडरों ने 3 मार्च को होने वाली कैबिनेट बैठक में मसला हल होने की सूरत में संघर्ष करेंगे। शिक्षा प्रोवाइडर अध्यापक यूनियन की तरफ से सूबा कनवीनर गुरप्रीत गुरी, जगसीर सिंह घारू और गुरमीत सिंह पड्डा ने बताया कि सरकार ने शिक्षा प्रोवाइडरों को रेगुलर न किया तो सीएम आवास के घेराव का एलान से लेकर शिक्षा प्रोवाइडरों द्वारा आत्मदाह भी शामिल है। इसकी जिम्मेवारी पंजाब सरकार की होगी।

पिछली अकाली-भाजपा सरकार के दौरान मोहाली धरने में कैप्टन अमरिदंर सिंह ने शिक्षा प्रोवाइडर अध्यापकों से वादा किया था कि उनकी सरकार आने पर पहली कैबिनेट मीटिग में इन्हें रेगुलर कर दिया जाएगा। लेकिन सरकार बनने के बाद भी शिक्षा प्रोवाइडरों को रेगुलर नहीं किया गया। सीएम की वादा खिलाफी के रोष के तौर पर यूनियन की तरफ से ऐलान किया गया कि उन्हें इस कैबिनेट मीटिग से काफी उम्मीदों हैं लेकिन अगर उनका मसला हल न हुआ तो सरकार के साथ आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। इस मौके नवतेज सिंह मोगा, कुलविदर सिंह अमृतसर, गुरविदर बठिडा, रेशम सिंह संगरूर, रशपाल फरीदकोट, जगमोहन सिंह मोहाली भी उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!