जासं, पटियाला । पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बेअंत सिंह की हत्या के आरोप में केंद्रीय जेल में बंद बलवंत ङ्क्षसह राजोआणा ने मासिक मेडिकल जांच करवाने से साफ मना कर दिया है। राजोआणा को फांसी की सजा दी गई है। राजोआणा की मेडिकल जांच हर महीने मेडिकल बोर्ड की देखरेख में होता है। मेडिकल जांच नहीं करवाने की बात राजोआणा ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ ङ्क्षसह को लिखे पत्र में कही है।

उक्त पत्र की कॉपी राजोआणा ने जेल में उससे मिलने आई अपनी बहन कमलदीप कौर को दी है। इससे पहले भी राजोआणा ने अपनी फांसी की सजा में हो रही देरी के संबंध में राष्ट्रपति को लिखे पत्र में एतराज जताया है।

पढ़ें : खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स के तीन आतंकी गिरफ्तार, पाकिस्तान से मिलता था पैसा

खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स के तीन आतंकी गिरफ्तार, पाकिस्तान से मिलता था पैसा - See more at: http://www.jagran.com/topics/punjab-crime#sthash.HcjqISSk.dpuf

पत्र के मुताबिक बलवंत सिंह राजोआणा ने संभावना जताई कि केंद्रीय जेल पटियाला में मेडिकल बोर्ड द्वारा उसकी की जाने वाली जांच की रिपोर्ट को फांसी के समय योग्य अथवा अयोग्य करार दिया जा सकता है। इसलिए अब वो हर महीने राङ्क्षजदरा अस्पताल के मेडिकल बोर्ड द्वारा की जाने वाली जांच नहीं करवाएगा जो प्रत्येक महीने बोर्ड सदस्यों द्वारा जेल में जाकर की जाती है। उसने इस बार भी जेल में मेडिकल जांच नहीं करवाई है।

राजोआणा का कहना है कि उसको सुनाई गई फांसी की सजा को तुरंत अमल में लाया जाए। फांसी की सजा में देरी के संबंध में उसने कहा कि उसकी फांसी का फैसला लेते समय इस बात पर विचार न किया जाए कि वो 21 सालों से जेल में है।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!