जेएनएन, कैथल/पटियाला। नाभा जेल पर आतंकी हमले की घटना के बाद हाई अलर्ट के दौरान गांव रामनगर के पास पुलिस नाके परा एक स्विफ्ट कार पर पुलिस की फायरिंग में एक लड़की नेहा (24 वर्ष) पुत्री स्व. रमेश चंद निवासी गोबिंद नगर पटियाला की मौत हो गई। इसके अलावा कार के पीछे आ रहा बाइक चालक चंद्रभान भान पुत्र देवराज निवासी गांव रौगला थाना दिड़बा जिला संगरूर पैर में गोली लगने से घायल हो गया।

घायल को समाना के सिविल अस्पताल लाया गया। यहां पर डॉक्टरों ने उसे प्राथमिक उपचार देने के बाद पटियाला के राजिंदरा अस्पताल रेफर कर दिया गया है। नेहा के शव को पोस्टमार्टम के लिए समाना के सिविल अस्पताल लाया गया है।

विलाप करते नेहा के परिजन।

सिविल अस्पताल में स्विफ्ट (एचआर60बी- 2657) के चालक सर्वजीत सिंह निवासी गांव भुनरहेड़ी ने बताया कि नेहा शादियों में आरकेस्ट्रा का कार्य करती थी। रविवार सुबह वह अपनी स्विफ्ट से नेहा व अन्य तीन अन्य लड़कियों को साथ लेकर गांव शदीपुर के पास जज पैलेस में विवाह समारोह में भाग लेने जा रहा था। नया गांव उर्फ रामनगर व गांव धर्महेड़ी के पास पुलिस ने नाका लगा रखा था। जब वह पुलिस नाके के पास पहुंचे तो वहां पर तैनात एक सिविल वर्दी धारी पुलिस मुलाजिमों ने कार को रुकने का इशारा किया।

सर्वजीत सिंह ने बताया जैसे ही वह कार को धीमा करने लगा तो नाके पर तैनात सिविल वर्दी पहने शेरा नामक पुलिस मुलाजिम ने कार के फ्रंट शीशे पर 6-7 राउंड फायरिंग शुरू कर दी। वह जब तक कुछ समझ पाता, तब तक कार में सवार नेहा की गोली लगने से मौत हो गई थी। इस दौरान एक गोली कार के पीछे आ रहे बाइक सवार व्यक्ति के पैर में भी लगी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना की सूचना मिलने पर एसपी (डी) सुखदेव सिंह विर्क, डीएसपी समाना कृष्ण कुमार पैंथे और अन्य पुलिस पार्टी ने मौके पर पहुंच कर मामले की जांच की।

दोषी पाए जाने पर की जाएगी कारवाई : एसपी (डी) विर्क

एसप (डी) सुखदेव सिंह ने बताया कि नाभा जेल की घटना के बाद पूरे पंजाब में हाई अलर्ट घोषित किया गया था। अचानक हुई इस घटना और हाई अलर्ट घोषित किए जाने से जो भी पुलिस मुलाजिम जिस हालत में था, वैसे ही नाके पर तैनात हो गया। उनमें से कुछ मुलाजिमों को वर्दी पहनने का मौका भी नहीं मिला। उनमें कुछ मुलाजिम बिना वर्दी के ही नाके पर तैनात हो गए। उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच करने के बाद अगर उक्त पुलिस मुलाजिम दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

कुछ समझ नहीं पाया गोली कहां से लगी

राजिंदरा अस्पताल में भर्ती गंभीर रूप से घायल चंद्रभान (38) के ठीक न होने के कारण डॉक्टरों ने ज्यादा न बोलने को कहा है। इसके बावजूद चंद्रभान ने बताया कि वह अपनी पत्नी अन्नु के साथ चीका से दड़वा गांव की ओर जा रहा था। उसके आगे एक कार थी। उसने बताया कि उसे लगा कि शरीर में आग का गोला सा तेजी से घुसा और वह छटपटाते हुए नीचे गिर गया। वह कुछ समझ नहीं पाया कि गोली कहां से लगी। घायल चंद्रभान ने इससे अधिक कुछ नहीं बताया। डॉक्टरों के अनुसार चंद्रभान अभी ठीक है, लेकिन उसे आराम की सख्त जरूरत है।

पढ़ें : नाभा जेल पर हमला, खालिस्तानी लिबरेशन फोर्स के मुखिया सहित छह को छुड़ाया

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!