गौरव सूद, पटियाला

सेंट्रल बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (सीबीएसई) के तहत एफिलेटेड व एफिलेशन के लिए आवेदन करने वाले स्कूलों के निरीक्षण की प्रक्रिया में पारदर्शिता लोने के मकसद से नियमों में बदलाव करते हुए इन्हें कठिन कर दिया है। इसके तहत अब स्कूल के निरीक्षण के लिए गई टीम को निरीक्षण के दौरान ही बोर्ड के यू-ट्यूब पर पांच मिनट की स्कूल की वीडियो अपलोड करनी होगी। इसके अलावा जांच रिपोर्ट भी उसी समय ऑनलाइन अपलोड करनी होगी। जबकि इससे पहले रिपोर्ट व वीडियो निजी तौर पर सीबीएसई के पास भेजी जाती थी।

इतना ही नहीं इन नियमों को और कड़ा करते हुए सीबीएसई ने संबंधित जिला के जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) से नो ड्यू सर्टिफिकेट लेने के निर्देश भी जारी किए हैं। स्कूल की जांच करने के बाद निरीक्षण टीम अब डीईओ से स्कूल स्टाफ के पे-स्केल और प्रॉपर्टी संबंधी दस्तावेजों संबंधी एनओसी लेगी। इस एनओसी को प्राप्त करने के बाद ही बोर्ड द्वारा अगला निर्णय लिया जाएगा।

ये कदम सीबीएसई ने प्राइवेट स्कूलों में स्टाफ के पे-स्केल में धांधलियों, फीस में अत्यधिक शुल्क वसूलने और प्राइवेट स्कूलों की मनमानी पर रोक लगाने के मकसद से उठाए हैं। इन नए निर्देशों के तहत अब सीबीएसई के अधिकारी साल भर स्कूलों का निरीक्षण जारी रखेंगे, जबकि इससे पहले केवल एफिलेशन प्राप्त करने वाले स्कूलों की ही जांच की जाती थी। बता दें कि पिछले कई सालों से एफिलेशन हासिल करने वाले स्कूलों की वीडियोग्राफी की जा रही थी, लेकिन इन वीडियो को सीधे यू-ट्यूब पर अपलोड करना पिछले साल से शुरू हुआ था।

------------

राज्य के 1365 सीबीएसई स्कूल पर लागू होगा फैसला

ये नया फैसला राज्य के 1365 सीबीएसई एफिलेटिड स्कूलों पर लागू होगा। इसके तहत पटियाला में 114, लुधियाना में 154 और जालंधर में 103 स्कूल हैं। राज्य के अन्य जिलों के मुकाबले इन जिलों में सबसे ज्यादा एफिलेटिड स्कूल हैं। जिनमें निरीक्षण टीमों द्वारा नए नियमों के तहत चेकिग जारी है।

-------------

'सीबीएसई द्वारा एफिलेशन की प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने के मकसद से निरीक्षण की प्रक्रिया की वीडियोग्राफी तुरंत ऑनलाइन अपलोड करने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत निरीक्षण टीम द्वारा निरीक्षण दौरान ही रिपोर्ट भी ऑनलाइन ही भरी जाएगी और स्कूल की वीडियोग्राफी को यू-ट्यूब पर अपलोड करके ऑनलाइन निरीक्षण रिपोर्ट में कॉपी और पेस्ट करके यूआरएल के साथ रिपोर्ट सबमिट की जाएगी। जबकि इससे पहले निरीक्षण टीम सीबीएसई को निजी तौर पर ऑफलाइन रिपोर्ट के साथ निरीक्षणों की वीडियो सीडी भेजती थी।'

-सीबीएसई की जिला कोआर्डिनेटर, अमृत औजला।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!