जागरण संवाददाता, पटियाला थाना घनौर के नजदीक यूको बैंक में डकैती रूपनगर के कांग्रेसी सरपंच ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर की थी। यह डकैती सोमवार शाम को करीब चार बजे हुई थी और पटियाला पुलिस ने आठ घंटे में ही केस हल करते हुए चारों आरोपितों को कैश व हथियार सहित काबू कर लिया। खास बात यह है कि पंजाब पुलिस ने केवल 8 घंटे में आरोपितों को दबोचा है।

एसएसपी वरुण शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों की पहचान कांग्रेसी सरपंच अमनदीप सिंह निवासी गांव हफिजाबाद, थाना चमकौर साहिब, जिला रूपनगर, दिलप्रीत सिंह उर्फ भाना निवासी बालसंडा गांव, थाना चमकौर साहिब, जिला रूपनगर और इसी गांव का प्रभदयाल सिंह निक्कू और नरिंदर सिंह निवासी गांव बलरामपुर, थाना चमकौर साहिब, रूपनगर के रूप में हुई है।

इन लोगों से लूट में इस्तेमाल स्विफ्ट कार, 17 लाख रुपये लूटी हुई रकम, दो खपरे व एक किरच के अलावा पुरानी बैंक लूट घटना में छीनी गई राइफल व दो जिंदा कारतूस बरामद किए हैं। इन आरोपितों का आपराधिक रिकार्ड भी है, जिसकी छानबीन की जा रही है।

बैंक लूट मामले में गिरफ्तार आरोपितों की जानकारी देते हुए एसएसपी- सौजन्य पटियाला पुलिस

लूट का मास्टरमाइंड है सरपंच अमनदीप

यूको बैंक लूट का मास्टरमाइंड सरपंच अमनदीप है, जो हफिजाबाद गांव का मौजूदा सरपंच है। उसी ने घनौर के यूको बैंक की रेकी थी, जिसके बाद अपने अन्य तीनों साथियों के साथ मिलकर सोमवार को वारदात को अंजाम देने आया था। सरपंच सहित तीन आरोपित बैंक के अंदर घुसे थे, जिन्होंने हथियार दिखाकर बैंक मैनेजर अमित थमन निवासी सनी एनक्लेव देवीगढ़ रोड सहित सभी स्टाफ को बंधक बना लिया था।

आरोपित प्रभदयाल सिंह स्विफ्ट कार लेकर शंभू रोड पर इनका इंतजार कर रहा था। 15 मिनट के अंदर ही बिना सिक्योरिटी गार्ड वाले इस बैंक से 17 लाख रुपये लूटने के बाद यह तीनों बैंक के एक ग्राहक की बुलेट मोटरसाइकल लेकर भागे थे।

घनौर से एक किलोमीटर दूर मैरिज पैलेस के बाहर बुलेट को छोड़ने के बाद यह तीनों स्विफ्ट कार में सवार होकर रूपनगर पहुंचे थे। यहां आरोपित दिलप्रीत सिंह भाना के खेतों वाली मोटर पर जाकर छिपकर पैसों का बंटवारा करने की तैयारी थी लेकिन पुलिस टीम ने इन्हें काबू कर लिया।

15 मिनट के अंदर पहुंची पुलिस ने तुरंत एक्शन लिया

एसएसपी ने बताया कि घटना के बारे में सूचना मिलते ही उनके अलावा एसपी डी हरबीर अटवाल, डीएसपी डी सुखअमृत रंधावा, डीएसपी घनौर रघुबीर सिंह, घनौर इंचार्ज साहिब सिंह की देखरेख में टीम घटनास्थल पर पहुंच गई थी। इसके बाद तकनीकी व विज्ञानिक तरीके से जांच शुरू की गई।

इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज व मोबाइल टावर की लोकेशन की जांच के बाद आरोपितों का सुराग लगाते हुए आठ घंटे के अंदर ही इन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी ने कहा कि घनौर पुलिस टीम व सीआइए स्टाफ पटियाला की टीम को केस हल करने पर सम्मानित भी किया जाएगा क्योंकि इस टीम ने कम समय के अंदर ही पूरा केस हल कर सभी आरोपित गिरफ्तार कर 100 प्रतिशत रिकवरी भी की है।

पूर्व सीएम चन्नी का करीबी है सरपंच अमनदीप!

डकैती के केस में गिरफ्तार सरपंच अमनदीप सिंह पूर्व सीएम चरनजीत सिंह चन्नी के कार्यकाल के दौरान काफी सक्रिय रहा था। इलाके में होने वाले प्रोग्राम के दौरान वह अक्सर पूर्व सीएम चन्नी के साथ चर्चा करता दिखाई देता था। फतेहगढ़ साहब में करीब 20 दिन पहले एसबीआइ बैंक लूट के मामले में अमनदीप सिंह को नामजद किया गया था इस केस में अमनदीप के दो साथी गिरफ्तार कर लिए थे लेकिन वह वांटेड चल रहा था। फतेहगढ़ साहिब के खमानो इलाके में हुई लूट की इस घटना के बाद अमनदीप सिंह के पूर्व सीएम चन्नी के साथ चर्चा की फोटोस वायरल भी हुई थी।

दो आरोपितों ने पहली बार वारदात की

अमनदीप सिंह 35 साल का दसवीं पास है, जिसके खिलाफ सात केस दर्ज हैं। रूपनगर जिले में उसके खिलाफ पांच मामले, फतेहगढ़ साहिब में एक और घनौर केस सहित सात केस दर्ज हैं। 27 वर्षीय आरोपित दिलप्रीत सिंह आठवीं पास है, जिसके खिलाफ रूपनगर में दो केस पहले से दर्ज हैं जबकि 47 वर्षीय नरिंदर सिंह 12वीं पास है, जो दिहाड़ी का काम करता था। वहीं 36 साल का प्रभदयाल सिंह 10वीं पास है, जो ट्रक ड्राइवर का काम करता था। इन दोनों आरोपितों ने मुख्य आरोपित सरपंच के साथ जुड़ने के बाद पहली बार वारदात की थी।

Edited By: Pankaj Dwivedi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट