जागरण संवाददाता, पटियाला : पेप्सु रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन (पीआरटीसी) के कांट्रैक्ट व आउटसोर्स मुलाजिमों की पक्के करने की मांग को लेकर जारी कामछोड़ हड़ताल के कारण जहां पीआरटीसी को वित्तीय नुकसान उठाना पड़ रहा है, वहीं यात्रियों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। शनिवार को हड़ताली कर्मियों ने बस स्टैंड के भीतर खड़ी एक बस को पकड़ लिया जिसे वे स्कूल बस बता रहे थे। जिला प्रधान सहजपाल सिंह संधू व हरकेश विक्की ने बताया कि पीले रंग की स्कूल बस पटियाला से सुनाम रूट पर जाने के लिए खड़ी थी और उसमें सवारियां बैठ चुकीं थीं जिनको यूनियन के सदस्यों ने उतार दिया। बाद में बस के चालक से रूट का परमिट मांगा तो वो परमिट नहीं दिखा सका। इसके बारे में यूनियन ने मैनेजमेंट पर निजी बसों को यात्रियों के लिए इस्तेमाल करने का आरोप लगाते कहा कि उनकी हड़ताल को फेल करने के लिए हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। जांच चल रही है

इस संबंध में पीआरटीसी के पटियाला डिपो व बस स्टैंड के जनरल मैनेजर जेपी सिंह ने कहा कि उनके पास भी इस तरह स्कूल बस चलाए जाने की बात आईै। जिसके लिए उन्होंने बस स्टैंड के इंचार्ज की ड्यूटी लगाई है कि वे उक्त बस के बारे में जानकारी लेकर उनको दें। इस मामले की जांच चल रही है। बसों के लिए भटकते यात्रियों का लगा मेला

शहर के बस स्टैंड पर बसों के पीछे भागने वाले यात्रियों की भीड़ देखकर ऐसा लग रहा था जैसे बस स्टैंड पर मेला लगा हो और लोग इधर-उधर घूम रहे हैं। कुछ यात्री छोटे बच्चों के साथ बसों में चढ़ने के लिए पीछे पीछे भागते हुए दिखाई दिए। हालांकि बस स्टैंड के भीतर केवल निजी बसों का ही जमावड़ा, लेकिन फिर भी पीआरटीसी की कुछ बसें आ जा रही हैं। बरसात के कारण आज कर्मियों ने फव्वारा चौक सहित बस स्टैंड पर रोष प्रदर्शन किया।

Edited By: Jagran