जागरण संवाददाता, पटियाला

स्वाइन फ्लू को लेकर सेहत विभाग गंभीर हो गया है और सिविल सर्जन ने देर शाम को आपात बैठक बुलाकर न केवल जिले में बढ़ रहे स्वाइन फ्लू का जायजा लिया। इस दौरान अधिकारियों सहित डॉक्टरों को निर्देश दिया है कि वे स्वाइन फ्लू के संदिग्ध मरीजों का खास तौर पर ध्यान रखें । बैठक में सिविल अस्पताल नाभा, समाना, राजपुरा, माता कौशल्या अस्पताल, रा¨जदरा अस्पताल से स्वाइन फ्लू के नोडल ऑफिसर, सेहत विभाग के सरकारी कर्मचारियों के अलावा प्राइवेट अस्पताल व इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पदाधिकारी व सदस्य मौजूद रहे ।

डॉ. मनजीत ¨सह ने प्राइवेट डॉक्टरों को आदेश दिया है कि वे अपने अस्पतालों में स्वाइन फ्लू वार्ड बनाएं ताकि स्वाइन फ्लू का संदिग्ध मरीज आने पर उसमें दाखिल किया जा सके । जिन अस्पतालों में या क्लीनिकों में स्वाइन फ्लू वार्ड की सुविधा नहीं दी सकती है तो वे उनको तुरंत रा¨जदरा अस्पताल में दाखिल करवाएं, ताकि वहां पर उनका पूरी तरह से इलाज किया जा सके। डॉ. मनजीत ¨सह ने सब को हिदायत देकर कहा कि अगर उनके पास स्वाइन फ्लू की संदिग्ध मरीज आता है तो वे इसका इलाज गंभीरता से करें। जिला एपीडेमोलोजिस्ट डॉ. गुरमीत ¨सह ने स्वाइन फ्लू के बारे में बताया कि अगर किसी मरीज को खांसी या जुकाम सहित छीकें आ रहीं हैं तो वे एसी स्थिति में अपना मुंह ढक कर रखें । इस तरह के लोग अपने हाथों को बार-बार धोएं ।

Posted By: Jagran