जेएनएन, पटियाला

फूड सेफ्टी एंड स्टेंडर्ड एक्ट 2006 के तहत खाद्य पदार्थो के बिजनेस चालकों और मुलाजिमों को खाद्य पदार्थो की सुरक्षा और स्टेंडर्ड संबंधित 15 मार्च से प्रशिक्षण शुरू करवाया जाएगा। जिला सेहत अफसर डॉ.सतिन्द्र सिंह ने बताया कि खाद्य पदार्थ बनाने और बिक्री के समय, निजी साफ-सफाई, अदारों में काम वाली जगह की साफ-सफाई और खाद्य पदार्थों के मानक और गुणवत्ता को कायम रखें। खाद्य पदार्थ उत्पादकों या उनके मुलाजिमों को प्रशिक्षण से जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कमिश्नर फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन पंजाब काहन सिंह पन्नू की तरफ से मिशन तंदरुस्त पंजाब के तहत ये फैसला लिया गया है। जिला सेहत अफसर ने बताया कि यह खाद्य पदार्थों के अदारों के एक प्रतिनिधि को प्रशिक्षण देने के लिए 600 रुपये जमा जीएसटी और सरकारी फीस जमा करवानी पड़ेगी। रेहड़ियों पर खाद्य पदार्थो को बनाने और बेचने वालों को यह प्रशिक्षण मुफ्त में मुहैया करवाया जाएगा। अदारों को फूड सेफ्टी स्टेंडर्ड एक्ट के अधीन रजिस्टर्ड कराने और अपेक्षित फूड लाइसेंस लेने के लिए भी प्रेरित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण के बाद संबंधित अदारे के कर्मचारी को फूड सेफ्टी स्टेंडर्ड एक्ट के अधीन सर्टिफिकेट भी दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस मुहिम को सफल बनाने के लिए योग्य प्रयास किए जाएंगे।

Posted By: Jagran