पटियाला, [प्रेम वर्मा]। नशा तस्कर ने पड़ोस में रहने वाले युवक को नशेड़ी बना लिया अौर फिर उसकी ऐसी हालत कर दी के वह अपने होशों हवास में नहीं रहा। वह उधार नशा देता रहा और इस तरह उसकी हालत बुरी कर दी। इसके बाद उसने युवक का अगवा कर लिया। छोड़ने की एवज में उसने युवक की बुजुर्ग मां से एक लाख 81 हजार रुपये मांगे। महिला ने किसी तरह 75 हजार रुपये का इंतजाम कर उसे दिया और बेटे को छुड़ाया। बाकि रकम के लिए चेक दिया। इसके बाद फिर उसने फिर युवक को अगवा कर लिया रकम वसूली। वह महिला से अब तक पांच लाख रुपये वसूल चुका है।

मामला शहर के थाना सिविल लाइन इलाके के प्रताप नगर का है। यहां की बुजुर्ग महिला जगजीत कौर अपने इकलौते बेटे को नशे के कारण तड़पता देखने को मजबूर है। महिला का कहना है कि उसके 32 साल के बेटे की यह हालत पड़ोस में रहने वाले नशा तस्कर मंजीत सिंह ने की है।

महिला ने बताया कि बेटे को नशेड़ी बनाने के बाद वह उसे उधार में नशा देने लगा। इसके बाद पैसे वसूल करने के लिए किडनैप कर उससे फिरौती के रूप में एक लाख 81 हजार रुपये मांगे। मंजीत का कहना था कि यह रकम उसके बेटे पर उधार है। जगजीत कौर ने बताया कि बेटे और खुद को बचाने के लिए उसने रिश्तेदारों से 75 हजार रुपये उधार लेकर कैश व बाकी रकम चेक के रूप में मंजीत सिंह को दे दिया।

जगजीत कौर का कहना है कि आरोपित उससे अब तक करीब पांच लाख रुपये ले चुका है। महिला ने बताया कि रुपये लेने के बावजूद 30 अगस्त को आरोपित फिर से उसके घर पर पहुंचा और उसने पिस्तौल दिखाकर धमकियां देनी शुरू कर दीं। धमकी के कारण मानसिक तौर पर परेशान हुई जगजीत कौर को 1 सितंबर को अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। करीब चार दिन तक अस्पताल में दाखिल रही जगजीत कौर जैसे ही घर पहुंची तो देखा कि बेटा घर पर नहीं था।

इसके बाद उसने आरोपित से संपर्क किया तो उसने कहा कि उसका बेटा किडनैप है, पैसे देकर उसे छुड़ाकर ले जाए। इसके बाद उसने पुलिस को शिकायत कर दी। थाना सिविल लाइन पुलिस ने आरोपित के खिलाफ शनिवार को मामला दर्ज कर लिया। 

आरोपित ने ऐसे लगाई युवक को नशे की लत

जगजीत कौर ने बताया कि वह बिजली निगम महकमे से रिटायर हुई है। उनके पति सरूप सिंह महिंदरा कॉलेज के प्रोफेसर थे। जब दोनों पति-पत्नी ड्यूटी पर होते थे तो बेटा घर पर अकेला रहता था। पति की सड़क हादसे में 2009 में मौत हो गई। इसके बाद जगजीत कौर अकेली पड़ गई। इस दौरान मंजीत के साथ बेटा ज्यादा रहने लगा।

महिला ने बताया कि इसी दौरान मंजीत ने बेटे को नशे की आदत डाल दी। उसने बेटे को नशे की गिरफ्त में जाने से बचाने की बहुम कोशिश की, लेकिन वह इस दलदल में फंस गया। नशे की लत के कारण उसकी शादी नहीं हो पा रही थी। उधर, आरोपित रोजाना घर कर आकर बेटे से उधारी के पैसे लेने की बात कहकर धमकियां देने लगा। बेटे की खातिर वह पैसे चुकाने लगी। मगर मंजीत पिछले कुछ समय से बेटे को किडनैप कर जबरन अपने पास रखने के बाद पिस्तौल दिखाकर फिरौती वसूल रहा था।

हेरोइन तस्‍कर बना शहद सैनिक का बेटा  

जालंधर। नवांशहर निवासी शहीद लांसनायक दर्शन सिंह का बेटा भूपिंदर सिंह हेरोइन तस्कर बन गया। वह चार बार सेना में भर्ती होने के लिए गया, लेकिन हर बार बाहर का रास्ता दिखाए जाने पर हताश होकर इस दलदल में फंस गया। थाना मकसूदां की पुलिस ने भूपिंदर और उसके साथी नितिन हांडा को विधिपुर फाटक के पास से सौ ग्राम हेरोइन के साथ गिरफ्तार किया है। भूपिंदर के पिता दर्शन सिंह 1994 में कुपवाड़ा में लांसनायक थे। वह आंतकियों के हमले के बाद उनसे लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे।

एसपी (हेडक्वार्टर) गुरमीत सिंह ने बताया कि डीएसपी दिग्विजय सिंह को सूचना मिली थी कि दो युवक हेरोइन लेकर आ रहे हैं। थाना मकसूदां के प्रभारी रमनदीप सिंह ने विधिपुर फाटक के पास नाकाबंदी की। इस दौरान एक बाइक पर दो युवक वहां से निकले तो पुलिस ने उन्हें रोका। दोनों की तलाशी लेने पर उनके पास से 50-50 ग्राम हेरोइन मिली।

Posted By: Sunil Kumar Jha