जेएनएन, पटियाला । अगले साल राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले शत-प्रतिशत वोटर कार्ड बनाने का लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा। इस बार चुनाव में एनआरआइ व फौजी भी ऑनलाइन मतपत्र से मतदान कर सकेंगे। इतना ही नहीं, राज्य में बिना किसी पते के रहने वाले भिखारियों को भी मतदान करने का मौका मिलेगा। यह घोषणा पंजाब के मुख्य चुनाव अधिकारी वीके सिंह ने पंजाबी विश्वविद्यालय में युवाओं को वोटर कार्ड बनवाने के लिए प्रेरित करने के लिए आयोजित समागम के दौरान की। इस दौरान विद्यार्थियों ने ऑनलाइन वोटर कार्ड बनवाने के संबंध में सवाल भी किए।

मुख्य चुनाव अधिकारी ने बताया कि पंजाब को केरल के बाद शत-प्रतिशत वोटर कार्ड बनाने वाला राज्य बनाया जाएगा। 2017 के विस चुनाव के दौरान विदेश में रहने वाले एनआरआइ, अरुणाचल प्रदेश जैसे सीमांत क्षेत्र में तैनात फौजियों व सर्विस मतदाताओं को ऑनलाइन मतपत्र उपलब्ध करवाए जाएंगे। राज्य में किराएदारों व भिखारियों के वोटर कार्ड बनाए जाएंगे। शहरी क्षेत्र में पोलिंग बूथों पर भीड़ होने की जानकारी देने के लिए विशेष मोबाइल एप्लीकेशन डिजायन किया गया है।

वीके सिंह ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति चुनाव आयोग को ऑनलाइन शिकायत करेगा तो उसकी पहचान गुप्त रखी जाएगी और संबंधित जगह पर कार्रवाई भी की जाएगी। पंजाबी विवि के इंस्टीट्यूट अॉफ इंपेक्ट असेस्मेंट की ओर से वोटरों के ज्ञान, सुझाव, आदत व व्यवहार पर करवाए गए सर्वे की रिपोर्ट को विवि के वाइस चांसलर डॉ. जसपाल सिंह ने चुनाव आयोग अधिकारी को सौंपा।

पढ़ें : रेलवे में नौकरी पाना चाहते हैं तो पहले पढ़ लें यह खबर

विभाग ने राज्य के कुल 20 विस क्षेत्रों में सर्वे किया है। इसमें एक आरक्षित, एक-एक शहरी, ग्रामीण, सबसे कम और सबसे अधिक मतदान करने वाले क्षेत्र को शामिल किया गया था। हर क्षेत्र में 200 मतदाताओं से बातचीत की गई थी। इस सर्वे में कई बहुमूल्य जानकारियां मिली हैं, जिन पर गौर किया जाएगा। डिप्टी कमिश्नर रामवीर ङ्क्षसह ने विद्यार्थियों को ऑनलाइन वोटर कार्ड बनवाने के बारे में जानकारी दी। इस मौके पर जिला प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद थे।

पढ़ें : विशाल ददलानी ने जैन मुनि से मांगी माफी, हाथ जोड़कर कहा- अब नहीं होगी ऐसी गलती

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!