जेएनएन, पटियाला। आइ एम सॉरी, आइ एम पागल, आइ एम नथिंग, आइ क्विट...। मोबाइल में ये मैसेज लिखकर थापर यूनिवर्सिटी के छात्र निखिल ने ट्रेन के आगे कूदकर खुदकशी कर ली। वह कंप्यूटर साइंस में बीटेक कर रहा था। कैंपस प्लेसमेंट में चयनित न होने के कारण वह परेशान चल रहा था।

अखिल गुप्ता (21) मूल रूप से न्यू डाक्टर कॉलोनी, बिराज राज नगर जिला झारसगुता, ओडिशा का रहने वाला था। अखिल के पिता आरसी गुप्ता मूलरूप से मध्य प्रदेश के बीर सिंह पाली, भोपाल के रहने वाले हैं। वह लंबे समय से ओडिशा में नौकरी करते हैं और अब परिवार वहीं रहता है। अखिल की एक छोटी बहन है। अखिल ने तीन साल पहले थापर यूनिवर्सिटी में एडमिशन ली थी।

कंप्यूटर साइंस बीटेक में उसका चौथा साल था। वह बहुत भावुक था। प्लेसमेंट न होने के कारण निराश हो गया था। पिछले कुछ दिन से दोस्तों से ज्यादा बातचीत भी नहीं कर रहा था। रविवार को वह राजपुरा की शंभू रेललाइन पर गया और दिल्ली-बठिंडा ट्रेन के आगे कूद गया। शिनाख्त करने पर पता चला कि थापर यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस बीटेक के फाइनल ईयर का छात्र था। यूनिवर्सिटी में पिछले दिनों चली कैंपस प्लेसमेंट में चयनित न होने से दुखी था।

अभी तो प्लेसमेंट के कई मौके मिलने थे : प्रबंधक

थापर यूनिवर्सिटी के प्रबंधकों का कहना है कि अखिल होनहार छात्र था। कैंपस प्लेसमेंट की प्रक्रिया चल रही है। अभी और कई मौके आने वाले थे। सुसाइड की वजह प्लेसमेंट न होने की जगह कुछ और भी हो सकता है।

मैसेज की जांच के लिए मोबाइल लैब भेजा : जांच अधिकारी

जीआरपी थाना राजपुरा से मामले के जांच अधिकारी सरवन सिंह का कहना है कि निखिल का परिवार ओडीशा से सोमवार को पटियाला पहुंचा जिसके बाद कार्रवाई की गई। छात्र ने सुसाइड से पहले मोबाइल में मैसेज लिखा था। मोबाइल जांच के लिए लैब भेजा गया है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!