पठानकोट, जेएनएन। पंजाब मेें नशे ने भारी संख्‍या में युवाओं को बर्बाद कर दिया। पंजाब का एक प्रतिभाशाली क्रिकेटर भी नशे की दलदल में फंसकर अपना कैरियर समाप्‍त कर बैठा और अपराध की राह पर चल पड़ा। इस क्रिकिटर को चेन स्‍नैचिंग मामले में पकड़ा गया है। सुखविंदर सिंह उर्फ हैप्पी नामक इस क्रिकेटर का कहना है कि वह एक आइपीएल टीम का भी हिस्‍सा रहा चु‍का है।

दो साल पहले दोस्त ने लगाई नशे की लत, इसके बाद क्रिकेट कैरियर हो गया बर्बाद

वह दो साल पहले अपने दोस्त के कारण नशे की दलदल में फंसा और इसके बाद पूरी तरह बर्बाद हो गया। उसके पास नशे के लिए पैसे नहीं मिले तो चोरी और छीनाझपटी जैसी वारदातें करने लगा। पुलिस के अनुसार, सुखविंदर सिंह ने पूछताछ में बताया कि वह 2010 से क्रिकेट खेल रहा है। वह आइपीएल में राजस्थान रॉयल्स की टीम से भी जुड़ा था। वह विदेश में भी क्रिकेट टूर्नामेंट खुल चुका है। आइपीएल सीजन खत्म होने के के बाद वह चंडीगढ़ की एक नामी कंपनी में काम करने लगा और वहीं रहने लगा।

पुलिस ने बताया कि सुखविंदर के माता-पिता पठानकोट के लक्ष्मी गार्डन कॉलोनी में माता-पिता रहते थे। उनसे मिलने वह कभी-कभी आता रहता था। दो साल पहले सुखविंदर पठानकोट के बिल्ला नाम के युवक के संपर्क में आया। उसके साथ वह नशे का आदी हो गया। बिल्ला बाद में किसी लड़की को भगा ले गया। सुखविंदर ने फिर नशे की लत को पूरा करने के लिए छोटी मोटी चोरियां और छीनाझपटी करना शुरू कर दिया।

महिला ने पहचान लिया था सुखविंदर
प्रेम नगर में कान की बाली झपटने के दौरान महिला ने सुखविंदर को पहचान लिया था। पुलिस ने बाद में शाम को उसके घर पर छापामारी कर गिरफ्तार कर लिया।

नशे के लिए पैसे की ख‍ातिर चुरा चुका है बहन का लैपटॉप
नशे की लत को पूरा करने के लिए हैप्पी घर से अपनी बहन का पर्स और लैपटॉप भी चोरी कर चुका है। उसकी बहन ने 3 मार्च 2017 को उसके खिलाफ शिकायत दी थी। थाना डिवीजन नंबर दो के जांच अधिकारी एएसआइ हरप्रीत सिंह का कहना है कि आरोपित का दावा है कि वह आइपीएल खुल चुका है। जांच की जा रही है कि हैप्पी किस स्तर का प्लेयर था और इसकी टीम में क्या भूमिका होती थी। इसने और कहां-कहां चोरियां की है उसका पता भी लगाया जा रहा है। फिलहाल अदालत ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

Posted By: Sunil Kumar Jha