सूरज प्रकाश, पठानकोट: कोविन एप और जिला सेहत विभाग की ओर से जारी किए जा रहे कोविड वैक्सीनेशन के डाटा में काफी अंतर पाया गया है। यह गड़बड़ी शुरू से ही चल रही है, लेकिन विभाग के अधिकारियों ने कभी दोनों डाटा में मिलान करने की जहमत ही नहीं उठाई। ऐसे में जिले में कितने लोगों का टीकाकरण किया गया है, इसको लेकर अब असमंजस की स्थिति बन गई है। कारण यह है कि कोविन एप पर जो डाटा अपलोड हो रहा है उसे केंद्र व राज्य के अधिकारी सही मान कर चल रहे हैं। इसी के हिसाब से आगामी योजना बनाई जा रही है, जबकि जो डाटा सेहत विभाग की ओर से जारी किया जा रहा है वह कुछ और बता रहा है।

सेहत विभाग के अनुसार 23 जून की शाम तक जिले में कुल 212947 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। इसमें फ‌र्स्ट डोज के 184066 और सेकेंड डोज के कुल 28881 लोग शामिल हैं। वहीं कोविन एप के डाटा पर अगर भरोसा करें तो अब तक कुल 201779 लोगों का टीकाकरण हुआ है। इसमें फ‌र्स्ट डोज के 171451 और सेकेंड डोज के 33328 शामिल हैं। इस हिसाब से सेहत विभाग के रिपोर्ट के अनुसार 8166 ज्यादा लोगों को वैक्सीनेशन की गई है।

वहीं सेहत विभाग के अधिकारी इसका सही तरीके से उत्तर नहीं दे पा रहे हैं। जानकार का कहना है कि किसी भी योजना को मूर्तरूप देने के लिए सही डाटा निकालना बेहद जरूरी है। डाटा मिस मैच होने से इनके दोहराव की आशंका भी बनी हुई है। कितने लोगों का टीकाकरण किया गया है और कितनों का अभी बाकी है इसे समझना मुश्किल हो जाएगा। कोई भी मुहिम इसके बिना सफल नहीं हो सकता है। उदाहरण के तौर पर इस समय जिला प्रशासन वार्ड व गांव को शतप्रतिशत टीकाकरण करवाने की योजना को बना रहा है। फिर जिले को बनाया जाना है। कौन सी डाटा को सही मानकर काम किया जाएगा। हमारे यहां से बिल्कुल ठीक जानकारी हो रही अपलोड: डा. रविकांत

सीएचसी नरोट जैमल सिंह के एसएमओ डा. रविकांत ने कहा कि उनके ब्लाक में जितनी भी रोजाना वैक्सीनेशन होती है और जितनी भी वैक्सीन की डोज आती है, उस सभी की डिटेल कोविन-ऐप नेट पर सही ढंग से अपलोड की जा रही है। वैक्सीन जिस कोल्ड स्टोर में रखी जाती है वहां बैठा कर्मी पूरी पार्दशता से काम करते हुए वैक्सीन की सही डिटेल भेज रहा है। कोविन-ऐप पर अपलोड करने के बाद वैक्सीनेशन की डिटेल सिविल सर्जन आफिस पठानकोट भी भेज दी जाती है। बिना रजिस्ट्रेशन के टीका लगाया नहीं जाता: डा. बिदु गुप्ता

सीएचसी घरोटा की एसएमओ डा. बिदु गुप्ता ने कहा कि उनके ब्लाक के अधीन जितनी भी वैक्सीनेशन हो रही है वह सभी कोविन एप पर रजिस्ट्रेशन होने के बाद ही हो रही है। कोविन ऐप पर जबतक रजिस्ट्रेशन नहीं होती, तब तक टीकाकरण नहीं किया जाता। एक दिन में शाम तक जितने लोगों का टीकाकरण किया जाता है उन सभी का डेटा नेट पर अपलोड आटोमैटिक हो जाता है। उनके ब्लाक द्वारा अपलोड किया जा रहा डेटा बिल्कुल ठीक है। मामला ध्यान में आया है, तुरंत जांच करवाई जाएगी: डा. दरबार

जिला टीकाकरण अफसर डा. दरबार राज ने कहा कि कोविन एप वाले गलत डाटे का मामला उनके ध्यान में आया है और वह जिला मीडिया बुलेटिन व कोविन-ऐप पर डाली जा रही वैक्सीनेशन मामले की जांच करवाएंगे। कहां गड़बड़ी पाई जा रही है और किस तरह इस डाटा को अपलोड करने में कोताही बरती जा रही है इसकी भी जांच करवाई जाएगी।

Edited By: Jagran