जागरण संवाददाता, पठानकोट: साहित्य कलश पठानकोट व आदर्श भारतीय महाविद्यालय की ओर से शनिवार को कवि सम्मेलन व आजादी का अमृत महोत्सव कला प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में एसएसपी पठानकोट सुरेंद्र लंबा मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए। जबकि, साहित्य कलश के संस्थापक सागर सूद, शायर विजेंद्र ठाकर संयोजक मनीष चौहान विशेष रूप से उपस्थित हुए।

प्रोफेसर राजेंद्र गुप्ता सांस्कृतिक विभाग प्रमुख, डा. अनिल डोगरा, हिदी विभागाध्यक्ष डा. मनु शर्मा ने गुलदस्ते प्रदान कर मुख्य अतिथि का अभिनंदन किया। प्रोफेसर राजेंद्र गुप्ता ने आए हुए महानुभावों का अभिनंदन किया डीन डा. अनिल डोगरा ने सांस्कृतिक विभाग आजादी का का अमृत महोत्सव पर चल रहे कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से बताया।

डा. मनु शर्मा ने कहा कि साहित्य कलश पठानकोट आदर्श भारतीय महाविद्यालय की ओर से आजादी का अमृत महोत्सव पर आयोजित प्रदर्शनी में विद्यार्थियों की ओर से वीर क्रांतिकारियों के चित्र स्लोगन बनाए गए। शायर जनाब विजेंद्र ठाकुर ने अपना कलाम पत्नी बसकरा लो जब पेश किया तो सब ने करतल ध्वनि से उनका अभिनंदन किया। कुसुम खुशबू ने अपना कलाम मेहताब फलक पर है गंगा का किनारा है सब अब साथ हैं हम दोनों जन्नत का नजारा है।

एसएसपी सुरेंद्र लांबा ने कहा कि आदर्श भारतीय महाविद्यालय व साहित्य कलश का प्रयास सराहनीय है। उन्होंने बच्चों द्वारा प्रस्तुत कार्यक्रम व शायरों के कलाम की प्रशंसा की।

इस मौके पर रजिस्ट्रार डा. आलोक तुली, हिदी विभागाध्यक्ष डा. चंद्रदीप शर्मा, संयोजक मनीष चौहान, एसडी भल्ला, राजीव गुप्ता, सौरभ गुप्ता, पंकज अरोड़ा, अभिषेक डोगरा, डा. सुखविदर सिंह हरकमल, प्रो. नीरज शर्मा, कुलदीप गुप्ता, अनूप सिंह, हर्ष, बलजोत सिमर भी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran