रणधीर बिट्टा, माधोपुर : पंजाब और जेएंडके में रेता-बजरी के रेट में भारी अंतर को लेकर स्थिति गंभीर होती जा रही है। रेट में भारी अंतर होने के कारण जेएंडके से सटे माधोपुर एरिया के लोगों द्वारा मंगवाए जाने वाले रेत-बजरी की गाड़ियों को रोका जा रहा है। माइनिग विभाग द्वारा यहां उनकी गाड़ियों को वापस लौटाया जा रहा है, वहीं उन पर कार्रवाई करने की भी चेतावनी दी जा रही है। ऐसे में जहां जेएंडके से पंजाब में रेत-बजरी मंगवाने वाले कारोबारियों में रोष है, वहीं माधोपुर में माइनिग माफिया पंजाब व जम्मू कश्मीर में संघर्ष हो सकता है, जिस प्रकार पिछले एक सप्ताह से माधोपुर में खींचातानी चल रही है उससे ऐसे आसार बन रहे हैं। जम्मू-कश्मीर से रेत बजरी के ट्रक पंजाब में आ रहे हैं और सस्ते रेट पर इसे बेच रहे हैं। ऐसे में पंजाब माइनिग ठेकेदार नहीं चाहते कि यह ट्रक इधर आएं। इससे इन ट्रकों को माधोपुर में रोका जा रहा है।

पंजाब में रेत-बजरी का रेट

पंजाब में इस समय रेत 1900 रूपये प्रति सैकडा बिक रही है, जबकि 10 एमएम बजरी 1350 रूपये, 20 एमएम बजरी 950 रूपये, 65 एमएम बजरी 850 रूप्ये व 40 एमएम बजरी 750 रूपये सैकड़ा बिक रही है। जेएंडके में रेत-बजरी का रेट

जेएंडके से आ रही रेत 1350 रूपये प्रति सैकडा बिक रही है, जबकि 10 एमएम बजरी 950 रूपये, 20 एमएम बजरी 850 रूपये, 65 एमएम बजरी 650 रुपये व 40 एमएम बजरी 650 रूपये सैकड़ा बिक रही है। वन नेशन, वन नेशन टैक्स तो फिर रोक किस बात की

ठेकेदारी करने वाले जम्मू के ठेकेदार सरवेश्वर ने कहा कि वह रेलवे का काम करते हैं। पिछले कुछ दिनों से उनका माधोपुर एरिया में काम चल रहा है। पंजाब और जेएंडके में रेता-बजरी के दाम में काफी अंतर है। ऐसे में उनके इलावा आस पास के कई एरिया के लोग पैसों की बचत को देखते हुए जेएंडके से रेता-बजरी मंगवा रहे हैं। सारे कागजात पूरे हैं फिर भी उन्हें माधोपुर में रोका गया है। ऐसे में जम्मू कश्मीर से आ रहा माल लोगों को सस्ता मिल रहा है। इसके चलते पंजाब के ठेकेदार जम्मू कश्मीर के ठेकेदारों पर दबाव बना रहे हैं कि वह कम रेट पर सप्लाई न करें। उन्होंने कहा कि जब केंद्र सरकार ने पूरे भारत में वन नेशन, वन टैक्स लागू कर दिया है तो फिर पंजाब वाले उन्हें क्यों रोक रहे हैं। रुटीन की चेकिग करते हैं: माइनिग अधिकारी

माइनिग अधिकारी गगन से जब इस मसले पर बात की तो उनका कहना था कि वह कहा कि वह रूटीन की चैकिग करवाते हैं और कागजात कम होने पर कानूनी कार्रवाई होगी। किसी को ला एंड आर्डर खराब करने की इजाजत नहीं : डीएसपी

डीएसपी रविंदर रूबी ने कहा कि किसी को भी ला एंड आर्डर खराब करने की इजाजत नहीं है। यदि कोई नियम तोडेगा तो कानूनी कार्रवाई होगी।

Edited By: Jagran